🪔श्री रामदेव जी की 3 आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

श्री रामदेव जी की 3 आरती (हिंदी) –

आरती - १ 

ओउम जय श्री रामादे स्वामी जय श्री रामादे।
पिता तुम्हारे अजमल मैया मेनादे।। ओउम जय।।

रूप मनोहर जिसका घोड़े असवारी।
कर में सोहे भाला मुक्तामणि धारी।। ओउम जय।।

विष्णु रूप तुम स्वामी कलियुग अवतारी।
सुरनर मुनिजन ध्यावे जावे बलिहारी।। ओउम जय।।

दुख दलजी का तुमने भर में टारा।
सरजीवन भाण को तुमने कर डारा।। ओउम जय।।

नाव सेठ की तारी दानव को मारा।
पल में कीना तुमने सरवर को खारा।। ओउम जय।।

आरती - २ 

पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।
घर अजमल अवतार लियो
लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।
पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

गंगा जमुना बहे सरस्वती।
रामदेव बाबो स्नान करे।
लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।
पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

घिरत मिठाई बाबा चढे थारे चूरमो
धूपारी महकार पङे
लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।
पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

ढोल नगाङा बाबा नोबत बाजे
झालर री झणकार पङे
लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।
पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

दूर-दूर सूं आवे थारे जातरो
दरगा आगे बाबा नीवण करे।
लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।
पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

हरी सरणे भाटी हरजी बोले।
नवों रे खण्डों मे निसान घुरे।
लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।
पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

आरती - ३ 

जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धणी आप पधारे ।
सतयुग में बाबा विष्‍णु बन आए, मधु-कटैभ को मार गिराये
ब्रह्मा जी को आप ऊबारो, देव श्री कहलाये ।।

जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धणी आप पधारे ।
त्रेता में बाबा राम बन आए, रावण को मार गिराये
महाबीर की आप उबारो, पुरूषोत्‍तम कहलाये ।।

जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धणी आप पधारे ।
द्वापर में बाबा कृष्‍ण बन आए, कंस को मार गिराये
सुदामा को आप उबारो, वासुदेव कहलाये ।।

जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धणी आप पधारे ।
कलयुग में बाबा रामदेव बन आए, भैरों-राकस को मार गिराये
बोहिता बनिए को आप उबारो, रामपीर कहलाये ।।

जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धणी आप पधारे ।
माता मैनादे पिता अजमाल जी, बाबा संग में डाली आये
देबो साबो पुत्र थारे, नेतली कहलाये ।।

जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धणी आप पधारे ।
श्री रामपीर की आरती, जो कोई नर गाये
जन्‍म-जन्‍म के कष्‍ट मिटे, भव सागर तर जाये ।।

जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धणी आप पधारे ।
गरू नरसिंह पाण्‍डे शरणे – ”बाबा”, प्रकाश पाण्‍डे गाये
प्रेमनगर में मन्दिर तिहारा, गढ़ सिरसा कहलाये ।।

जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धणी आप पधारे ।

Shri Ram Dev Ji Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Aarti - १ 

Om Jai Shri Ramade Swami Jai Shri Ramade.
Pita tumhare Ajmal Menaade.|| Om Jai ||

Roop manohar jiska ghode asvaari.
Kar mein sohe bhaala muktamani dhaari.|| Om Jai ||

Vishnu roop tum Swami Kaliyug avataari.
Suranar munijan dhyaave jaave balihaari.|| Om Jai ||

Dukh dalji ka tumne bhar mein taara.
Sarjeevan bhaan ko tumne kar daara.|| Om Jai ||

Naav Seth ki taari daanav ko maara.
Pal mein keena tumne sarvar ko khaara.|| Om Jai ||

Aarti - 2

Picham dharaan soon mhara peer ji padhariya.
Ghar Ajmal avataar liyo
Laachaan sugna kare thaari aarti.
Harji bhaati chhavar dhole.
Picham dharaan soon mhara peer ji padhariya.

Ganga Jamuna bahe Saraswati.
Ramdev babo snaan kare.
Laachaan sugna kare thaari aarti.
Harji bhaati chhavar dhole.
Picham dharaan soon mhara peer ji padhariya.

Ghirat mithai baba chhade thaare choormo.
Dhoopaari mahakaar pange.
Laachaan sugna kare thaari aarti.
Harji bhaati chhavar dhole.
Picham dharaan soon mhara peer ji padhariya.

Dhol nagaan baba nobat baaje.
Jhaalar ri jhankar pange.
Laachaan sugna kare thaari aarti.
Harji bhaati chhavar dhole.
Picham dharaan soon mhara peer ji padhariya.

Door-door soon aave thaare jaataro.
Darga aage baba nivan kare.
Laachaan sugna kare thaari aarti.
Harji bhaati chhavar dhole.
Picham dharaan soon mhara peer ji padhariya.

Hari sarane bhaati harji bole.
Navon re khandon me nisaan ghure.
Laachaan sugna kare thaari aarti.
Harji bhaati chhavar dhole.
Picham dharaan soon mhara peer ji padhariya.

Aarti - 3

Jai Shri Ramdev avataari, Kalyug mein dhanee aap padhare.
Satyug mein baba Vishnu ban aaye, Madhu-Kaitabha ko maar giraye.
Brahma ji ko aap ubaaro, Dev Shri kahlaaye.||

Jai Shri Ramdev avataari, Kalyug mein dhanee aap padhare.
Treta mein baba Ram ban aaye, Ravan ko maar giraye.
Mahaveer ki aap ubaaro, Purushottam kahlaaye.||

Jai Shri Ramdev avataari, Kalyug mein dhanee aap padhare.
Dwapar mein baba Krishna ban aaye, Kans ko maar giraye.
Sudama ko aap ubaaro, Vasudev kahlaaye.||

Jai Shri Ramdev avataari, Kalyug mein dhanee aap padhare.
Kalyug mein baba Ramdev ban aaye, Bhairon-Rakas ko maar giraye.
Bohita Baniye ko aap ubaaro, Rampir kahlaaye.||

Jai Shri Ramdev avataari, Kalyug mein dhanee aap padhare.
Mata Mainade pita Ajmal ji, baba sang mein daali aaye.
Debo sabo putra thaare, Netali kahlaaye.||

Jai Shri Ramdev avataari, Kalyug mein dhanee aap padhare.
Shri Rampir ki aarti, jo koi nar gaaye.
Janm-janm ke kasht mite, bhav saagar tar jaaye.||

Jai Shri Ramdev avataari, Kalyug mein dhanee aap padhare.
Garoo Narasimha Pandey sharane – “Baba”, Prakash Pandey gaaye.
Premnagar mein mandir tihara, Gadhasira kahlaaye.||

Jai Shri Ramdev avataari, Kalyug mein dhanee aap padhare.

https://shriaarti.in/

श्री रामदेव जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

“Jai Shri Ramdev Avatari, Kalayug mein Dhani Aap Padhare.”
Meaning: Hail Shri Ramdev, the incarnate one, you have arrived as the prosperous one in the age of Kali.

“Satyug mein Baba Vishnu Ban Aaye, Madhu-Kaitabha ko maar giraye. Brahma ji ko aap ubaaro, Dev Shri kahlaye.”
Meaning: In the age of Satyuga, you appeared as Lord Vishnu, defeating the demons Madhu and Kaitabha. You saved Lord Brahma and are known as the divine lord.

“Tretayug mein Baba Ram Ban Aaye, Ravan ko maar giraye. Mahabir ki aap ubaaro, Purushottam kahlaye.”
Meaning: In the age of Treta, you manifested as Lord Ram, slaying the demon king Ravana. You rescued Mahavir and are called the supreme being.

“Dwapar mein Baba Krishna Ban Aaye, Kansa ko maar giraye. Sudama ko aap ubaaro, Vasudev kahlaye.”
Meaning: In the age of Dwapara, you incarnated as Lord Krishna, defeating the tyrant Kansa. You uplifted Sudama and are known as Vasudev.

“Kalayug mein Baba Ramdev Ban Aaye, Bhairo-Rakshas ko maar giraye. Bohita Baniye ko aap ubaaro, Rampeer kahlaye.”
Meaning: In the present age of Kali, you have appeared as Baba Ramdev, overcoming Bhairo and demons. You protect the traders and are called Rampeer.

“Mata Mainade, Pitaa Ajamal Ji, Baba sang mein daali aaye. Debo sabo putra thaare, Netali kahlaye.”
Meaning: Mother Mainade and Father Ajamal Ji, they brought you up. You are the son of all the gods and are called Netali.

“Jai Shri Ramdev Avatari, Kalayug mein Dhani Aap Padhare.”
Meaning: Hail Shri Ramdev, the incarnate one, you have arrived as the prosperous one in the age of Kali.

“Shri Rampeer ki Aarti, jo koi nar gaaye. Janm-janm ke kasht mite, bhav sagar tar jaaye.”
Meaning: The Aarti (devotional song) of Shri Rampeer, whoever sings it, will be relieved from the cycle of birth and death and will cross the ocean of existence.

“Jai Shri Ramdev Avatari, Kalayug mein Dhani Aap Padhare.”
Meaning: Hail Shri Ramdev, the incarnate one, you have arrived as the prosperous one in the age of Kali.

“Garoo Narsimha Pande Sharane – ‘Baba’, Prakash Pande gaaye. Premanagar mein mandir tihara, Gadh Sirsa kahlaye.”
Meaning: Garoo Narsimha Pande seeks refuge in you, Baba. Prakash Pande sings your praise. In Premanagar, there is a temple known as Gadh Sirsa.

“Jai Shri Ramdev Avatari, Kalayug mein Dhani Aap Padhare.”
Meaning: Hail Shri Ramdev, the incarnate one, you have arrived as the prosperous one in the age of Kali.

श्री रामदेव जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

“जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धनी आप पधारे।”
अर्थ: अवतारी श्री रामदेव की जय हो, आप कलियुग में समृद्धिशाली बनकर आये हैं।

“सतयुग में बाबा विष्णु बन आये, मधु-कैटभ को मार गिराये। ब्रह्मा जी को आप उबारो, देव श्री कहलाये।”
अर्थ: सतयुग के युग में, आप मधु और कैटभ नामक राक्षसों को पराजित करते हुए भगवान विष्णु के रूप में प्रकट हुए थे। आपने भगवान ब्रह्मा को बचाया और दिव्य भगवान के रूप में जाने जाते हैं।

“त्रेतायुग में बाबा राम बन आये, रावण को मार गिराये। महाबीर की आप उबारो, पुरूषोत्तम कहलाये।”
अर्थ: त्रेता युग में आप भगवान राम के रूप में प्रकट हुए और राक्षस राजा रावण का वध किया। आपने महावीर का उद्धार किया और परमपुरुष कहलाये।

“द्वापर में बाबा कृष्ण बन आये, कंस को मार गिराये। सुदामा को आप उबारो, वासुदेव कहलाये।”
अर्थ: द्वापर युग में आपने अत्याचारी कंस को हराकर भगवान कृष्ण के रूप में अवतार लिया। आपने सुदामा का उद्धार किया और वासुदेव कहलाये।

“कलयुग में बाबा रामदेव बन आये, भैरो-राक्षस को मार गिराये। बोहिता बनिये को आप उबारो, रामपीर कहलाये।”
अर्थ: वर्तमान कलियुग में आप भैरो और राक्षसों पर विजय प्राप्त करते हुए बाबा रामदेव के रूप में अवतरित हुए हैं। आप व्यापारियों की रक्षा करते हैं और रामपीर कहलाते हैं।

“माता मैनादे, पिता अजामल जी, बाबा संग में डाली आये। देबो सबो पुत्र थारे, नेताली कहलाये।”
भावार्थ: माता मैनादे और पिता अजामल जी, उन्होंने ही आपका पालन-पोषण किया। आप सभी देवताओं के पुत्र हैं और नेताली कहलाते हैं।

“जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धनी आप पधारे।”
अर्थ: अवतारी श्री रामदेव की जय हो, आप कलियुग में समृद्धिशाली बनकर आये हैं।

“श्री रामपीर की आरती, जो कोई नर गाए। जन्म-जन्म के कष्ट मिटे, भव सागर तर जाए।”
अर्थ: श्री रामपीर की आरती (भक्ति गीत), जो कोई भी इसे गाएगा, वह जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्त हो जाएगा और भवसागर से पार हो जाएगा।

“जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धनी आप पधारे।”
अर्थ: अवतारी श्री रामदेव की जय हो, आप कलियुग में समृद्धिशाली बनकर आये हैं।

“गरू नरसिम्हा पांडे शरणे – ‘बाबा’, प्रकाश पांडे गाए। प्रेमनगर में मंदिर तिहारा, गढ़ सिरसा कहलाए।”
अर्थ: गारू नरसिम्हा पांडे आपकी शरण में हैं, बाबा। प्रकाश पांडे आपका गुणगान करते हैं। प्रेमनगर में एक मंदिर है जिसे गढ़ सिरसा के नाम से जाना जाता है।

“जय श्री रामदेव अवतारी, कलयुग में धनी आप पधारे।”
अर्थ: अवतारी श्री रामदेव की जय हो, आप कलियुग में समृद्धिशाली बनकर आये हैं।

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

चालीसा संग्रह देखे – लिक

Leave a Comment