🪔 भारत माता की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

भारत माता की आरती (हिंदी), Bharat Mata Ki Aarti PDF, bharat mata ki aarti pdf –

आरती भारत माता की,
जगत के भाग्य विधाता की ।
आरती भारत माता की,
ज़गत के भाग्य विधाता की ।
सिर पर हिम गिरिवर सोहै,
चरण को रत्नाकर धोए,
देवता गोदी में सोए,
रहे आनंद, हुए न द्वन्द,
समर्पित छंद,
बोलो जय बुद्धिप्रदाता की,
जगत के भाग्य विधाता की

आरती भारत माता की,
जगत के भाग्यविधाता की ।

जगत में लगती है न्यारी,
बनी है इसकी छवि न्यारी,
कि दुनियाँ देख जले सारी,
देखकर झलक,
झुकी है पलक, बढ़ी है ललक,
कृपा बरसे जहाँ दाता की,
जगत के भाग्य विधाता की

आरती भारत माता की,
जगत के भाग्यविधाता की ।

गोद गंगा जमुना लहरे,
भगवा फहर फहर फहरे,
लगे हैं घाव बहुत गहरे,
हुए हैं खण्ड, करेंगे अखण्ड,
देकर दंड मौत परदेशी दाता की,
जगत के भाग्य विधाता की

आरती भारत माता की,
जगत के भाग्यविधाता की ।

पले जहाँ रघुकुल भूषण राम,
बजाये बँसी जहाँ घनश्याम,
जहाँ का कण कण तीरथ धाम,
बड़े हर धर्म, साथ शुभ कर्म,
लढे बेशर्म बनी श्री राम दाता की,
जगत के भाग्य विधाता की

आरती भारत माता की,
जगत के भाग्यविधाता की ।

बड़े हिन्दू का स्वाभिमान ,
किया केशव ने जीवनदान,
बढाया माधव ने भी मान,
चलेंगे साथ,
हाथ में हाथ, उठाकर माथ,
शपथ गीता गौमाता की,
जगत के भाग्य विधाता की
आरती भारत माता की,
जगत के भाग्यविधाता की ।

भारत माता की आरती (हिंदी)

Bharat Mata Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Aarti Bharat Mata Ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.
Aarti Bharat Mata Ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

Sir par him girivar sohe,
Charan ko ratnakar dhoye,
Devata godi mein soye,
Rahe anand, hue na dwand,
Samarpit chand,
Bolo jai buddhipradata ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

Aarti Bharat Mata Ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

Jagat mein lagti hai nyari,
Bani hai iski chhavi nyari,
Ki duniya dekh jale saari,
Dekhkar jhalak,
Jhuki hai palak, badi hai lalak,
Kripa barse jahan data ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

Aarti Bharat Mata Ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

God Ganga Yamuna lahre,
Bhagwa fahar fahar fahre,
Lage hain ghav bahut gehre,
Huye hain khand, karenge akhand,
Dekar dand maut pardeshi data ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

Aarti Bharat Mata Ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

Pale jahan Raghu kul bhushan Ram,
Bajaye bansi jahan GhanShyam,
Jahan ka kan kan teerth dham,
Bade har dharm, saath shubh karm,
Ladhe besharm bani Shri Ram data ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

Aarti Bharat Mata Ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

Bade Hindu ka swabhimaan,
Kiya Keshav ne jeevan daan,
Badaaya Madhav ne bhi maan,
Chalenge saath,
Haath mein haath, uthakar maath,
Shapath Gita gaumata ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.
Aarti Bharat Mata Ki,
Jagat ke bhagya vidhata ki.

https://shriaarti.in/

भारत माता की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

Aarti Bharat Mata Ki – Prayer to Mother India

Jagat ke bhagya vidhata ki – The creator of the destiny of the world

Sir par him girivar sohe – The Himalayas shine on our heads

Charan ko ratnakar dhoye – The oceans wash our feet like jewels

Devata godi mein soye – The gods sleep in our laps

Rahe anand, hue na dwand – Joy remains, duality disappears

Samarpit chand – Offering of the moon

Bolo jai buddhipradata ki – Chant the victory of the giver of wisdom

Jagat ke bhagya vidhata ki – The creator of the destiny of the world

Jagat mein lagti hai nyari – It looks beautiful in the world

Bani hai iski chhavi nyari – Its image is unique

Ki duniya dekh jale saari – The whole world burns after seeing it

Dekhkar jhalak, jhuki hai palak, badi hai lalak – After seeing it, the eyelids lower and the forehead wrinkles

Kripa barse jahan data ki – The grace of the giver rains down

Jagat ke bhagya vidhata ki – The creator of the destiny of the world

God Ganga Yamuna lahre – The waves of the rivers Ganga and Yamuna

Bhagwa fahar fahar fahre – The saffron flag flutters

Lage hain ghav bahut gehre – There are deep wounds

Huye hain khand, karenge akhand – There are pieces, we will make it whole

Dekar dand maut pardeshi data ki – Giving punishment, the foreigner will die

Jagat ke bhagya vidhata ki – The creator of the destiny of the world

Pale jahan Raghu kul bhushan Ram – Where Lord Ram, the ornament of the Raghu dynasty was born

Bajaye bansi jahan GhanShyam – Where Lord Krishna played his flute

Jahan ka kan kan teerth dham – Where every particle is a pilgrimage

Bade har dharm, saath shubh karm – Every religion has great deeds, along with good karma

Ladhe besharm bani Shri Ram data ki – The shameless fought in the name of Lord Ram, the giver

Jagat ke bhagya vidhata ki – The creator of the destiny of the world

Bade Hindu ka swabhimaan – The pride of the great Hindus

Kiya Keshav ne jeevan daan – Lord Krishna gave the gift of life

Badaaya Madhav ne bhi maan – Lord Vishnu also honored

Chalenge saath, haath mein haath, uthakar maath – We will walk together, hand in hand, and lift the weight

Shapath Gita gaumata ki – The oath of the cow mother

Jagat ke bhagya vidhata ki – The creator of the destiny of the world

Aarti Bharat Mata Ki – Prayer to Mother India

भारत माता की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

आरती भारत माता की – भारत माता की प्रार्थना

जगत के भाग्य विधाता की – जगत के भाग्य विधाता

सर पर उसे गिरिवर सोहे – हिमालय हमारे सिर पर चमकता है

चरण को रत्नाकर धोये – समुद्र हमारे पैरों को रत्नों की तरह धोते हैं

देवता गोदी में सोया – देवता हमारी गोद में सोते हैं

रहे आनंद, हुए न द्वंद – आनंद बना रहता है, द्वैत मिट जाता है

समरपित चंद – चंद्रमा को अर्घ्य देना

बोलो जय बुद्धिप्रदाता की – बुद्धि के दाता की जय बोलो

जगत के भाग्य विधाता की – जगत के भाग्य विधाता

जगत में लगती है न्यारी – यह दुनिया में खूबसूरत दिखती है

बनी है इसकी छवि न्यारी – इसकी छवि निराली है

की दुनिया देख जले साड़ी – जिसे देखकर जलती है पूरी दुनिया

देखकर झलक, झुकी है पलक, बड़ी है लालक – इसे देखने के बाद पलकें नीची और माथे पर झुर्रियां

कृपा बरसे जहां दाता की – देने वाले की कृपा बरसती है

जगत के भाग्य विधाता की – जगत के भाग्य विधाता

भगवान गंगा यमुना लहरे – गंगा और यमुना नदियों की लहरें

भगवा फहर फाहर फहरे – भगवा ध्वज फहराता है

लगे हैं घाव बहुत गहरे – गहरे घाव हैं

हुए हैं खंड, करेंगे अखंड – टुकड़े हैं, हम इसे पूरा करेंगे

देकर दंड मौत परदेशी दाता की – सजा देकर विदेशी मरेगा

जगत के भाग्य विधाता की – जगत के भाग्य विधाता

पाले जहां रघु कुल भूषण राम – जहां रघु वंश के आभूषण भगवान राम का जन्म हुआ था

बजाये बंसी जहां घनश्याम – जहां भगवान कृष्ण ने अपनी बांसुरी बजाई थी

जहां का कान तीर्थ धाम- जहां कण-कण तीर्थ है

बड़े हर धर्म, साथ शुभ कर्म – हर धर्म में अच्छे कर्म के साथ-साथ महान कर्म भी होते हैं

लधे बेशरम बानी श्री राम दाता की – बेशर्म लड़े राम दाता राम के नाम

जगत के भाग्य विधाता की – जगत के भाग्य विधाता

बड़े हिन्दुओं का स्वाभिमान – महान हिन्दुओं का गौरव

किया केशव ने जीवन दान – भगवान कृष्ण ने जीवन का उपहार दिया

बड़ाया माधव ने भी मान – भगवान विष्णु ने भी किया सम्मान

चलेंगे साथ, हाथ में हाथ, उठाकर मात

शपथ गीता गौमाता की – गौ माता की शपथ

जगत के भाग्य विधाता की – जगत के भाग्य विधाता

आरती भारत माता की – भारत माता की प्रार्थना

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

Leave a Comment