🪔 चिंतपूर्णी माता जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

चिंतपूर्णी माता जी की आरती (हिंदी), Shri Chintpurni Devi Ji Ki Aarti, mata chintpurni ki aarti –

चिंतपूर्णी चिंता दूर करनी,
जग को तारो भोली माँ
जन को तारो भोली माँ,
काली दा पुत्र पवन दा घोड़ा ॥
॥ भोली माँ ॥

सिन्हा पर भाई असवार,
भोली माँ, चिंतपूर्णी चिंता दूर ॥
॥ भोली माँ ॥

एक हाथ खड़ग दूजे में खांडा,
तीजे त्रिशूल सम्भालो ॥
॥ भोली माँ ॥

चौथे हाथ चक्कर गदा,
पाँचवे-छठे मुण्ड़ो की माला ॥
॥ भोली माँ ॥

सातवे से रुण्ड मुण्ड बिदारे,
आठवे से असुर संहारो ॥
॥ भोली माँ ॥

चम्पे का बाग़ लगा अति सुन्दर,
बैठी दीवान लगाये ॥
॥ भोली माँ ॥

हरी ब्रम्हा तेरे भवन विराजे,
लाल चंदोया बैठी तान ॥
॥ भोली माँ ॥

औखी घाटी विकटा पैंडा,
तले बहे दरिया ॥
॥ भोली माँ ॥

सुमन चरण ध्यानु जस गावे,
भक्तां दी पज निभाओ ॥
॥ भोली माँ ॥

चिंतपूर्णी चिंता दूर करनी,
जग को तारो भोली माँ

🪔 चिंतपूर्णी माता जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Shri Chintpurni Devi Ji Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Chintapurni chinta door karni,
Jag ko taro bholi Maa
Jan ko taro bholi Maa,
Kali da putra Pawan da ghoda.
Bholi Maa.

Sinha par bhai asvaar,
Bholi Maa, chintapurni chinta door.
Bholi Maa.

Ek haath khadag dooje mein khaanda,
Teeje trishul sambhalo.
Bholi Maa.

Chauthe haath chakkar gada,
Paanche-chhathe murndo ki mala.
Bholi Maa.

Saathve se rund munda bidaare,
Aathve se asur samhaaro.
Bholi Maa.

Champe ka baagh laga ati sundar,
Baithi diwan lagaaye.
Bholi Maa.

Hari Brahma tere bhavan viraaje,
Laal chandoya baithi taan.
Bholi Maa.

Aukhi ghaati vikata pandaa,
Tale behi dariya.
Bholi Maa.

Suman charan dhyaanu jas gaave,
Bhaktaan di paj nibhao.
Bholi Maa.

Chintapurni chinta door karni,
Jag ko taro bholi Maa.

https://shriaarti.in/

चिंतपूर्णी माता जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

Relieving Anxious Worry:
Worrying, removing worries.

Star the world innocent mother:
Mother, you save the world.

Stare your life innocent mother:
Mother, save you people.

Kali Da’s son Pawan Da Ghoda:
Son of Kali, horse of wind (wind).

Naive Mother:
Oh innocent mother

Brother Aswar on Sinha:
The brothers ride a horse on a lion.

Innocent mother, anxious worries away:
O innocent mother, the one who removes worries.

Naive Mother:
Oh innocent mother

Section in one hand Khadag Duje:
Sword in one hand, shield in the other.

Take hold of the Teej Trishul:
Protect the Trishul in the third hand.

Naive Mother:
Oh innocent mother

circled the fourth hand:
Wear the chakra in the fourth hand.

Garland of fifth-sixth Murando:
The fifth and sixth hands hold garlands of heads.

Naive Mother:
Oh innocent mother

Rund Munda Bidare from Saathwe:
Cut off the heads of the demons with the seventh hand.

Kill the demons from the eighth:
Conquer the demons with the eighth hand.

Naive Mother:
Oh innocent mother

Champe’s garden looked very beautiful:
A beautiful garden of fragrant flowers has been established.

Sitting on the divan:
Sitting there, the divine court is held.

Naive Mother:
Oh innocent mother

Hari Brahma sits in your house:
Hari (Lord Vishnu) and Brahma reside in your abode.

Red Chandoya sitting posture:
You are sitting wearing a red saree.

Naive Mother:
Oh innocent mother

Aukhi Valley Giant Panda:
Tough terrain, terrible jungle.

Underneath the river:
There is a river flowing below.

Naive Mother:
Oh innocent mother

Suman Charan Dhyanu Jas Gawe:
Devotees sing hymns meditating on your lotus feet.

Devotee play the part:
Fulfill the wishes of your devotees.

Naive Mother:
Oh innocent mother

Relieving Anxious Worry:
Worrying, removing worries.

Star the world innocent mother:
Mother, you save the world.

चिंतपूर्णी माता जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

चिंतापूर्णी चिंता दूर करनी:
चिंतापूर्णी, चिंताओं को दूर करने वाली।

जग को तारो भोली मां:
माँ, तुम दुनिया को बचाओ।

जान को तारो भोली मां:
माँ, तुम लोगों को बचाओ।

काली दा पुत्र पवन दा घोड़ा:
कलि का पुत्र, पवन का घोड़ा (हवा)।

भोली माँ:
ओ भोली माँ।

सिन्हा पर भाई अस्वार:
सिंह पर भाई घोड़े की सवारी करते हैं।

भोली मां, चिंतापूर्णी चिंता दूर:
हे भोली माता, चिंता हरने वाली।

भोली माँ:
ओ भोली माँ।

एक हाथ खड़ग दूजे में खंड:
एक हाथ में तलवार, दूसरे हाथ में ढाल।

तीजे त्रिशूल संभालो:
तीसरे हाथ में त्रिशूल की रक्षा करें।

भोली माँ:
ओ भोली माँ।

चौथे हाथ चक्कर गड़ा:
चौथे हाथ में चक्र धारण करें।

पांचे-छठे मुरंडो की माला:
पांचवें और छठे हाथों में सिर की माला है।

भोली माँ:
ओ भोली माँ।

साथवे से रुंद मुंडा बिदारे:
सातवें हाथ से राक्षसों का सिर काट दो।

आठवे से असुर संहारो:
आठवें हाथ से राक्षसों पर विजय प्राप्त करें।

भोली माँ:
ओ भोली माँ।

चंपे का बाग लगा अति सुंदर:
सुगन्धित पुष्पों का सुन्दर उद्यान स्थापित है।

बैठी दीवान लगाये:
वहीं बैठकर दिव्य दरबार लगाया जाता है।

भोली माँ:
ओ भोली माँ।

हरि ब्रह्मा तेरे भवन विराजे:
हरि (भगवान विष्णु) और ब्रह्मा आपके निवास में निवास करते हैं।

लाल चंदोया बैठी तान:
लाल साड़ी पहनकर आप विराजमान हैं।

भोली माँ:
ओ भोली माँ।

औखी घाटी विकट पांडा:
कठिन इलाका, भयानक जंगल।

तले बही दरिया:
नीचे बहती नदी है।

भोली माँ:
ओ भोली माँ।

सुमन चरण ध्यानु जस गावे:
भक्त आपके चरण कमलों का ध्यान करते हुए भजन गाते हैं।

भक्तां दी पाज निभाओ:
अपने भक्तों की मनोकामना पूर्ण करें।

भोली माँ:
ओ भोली माँ।

चिंतापूर्णी चिंता दूर करनी:
चिंतापूर्णी, चिंताओं को दूर करने वाली।

जग को तारो भोली मां:
माँ, तुम दुनिया को बचाओ।

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

Leave a Comment