🪔जानकी माँ जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

जानकी माँ जी की आरती (हिंदी) –

आरती कीजै जनक लली की।

राममधुपमन कमल कली की |
रामचंद्र, मुखचंद्र चकोरी।
अंतर सांवर बाहर गोरी।
सकल सुमंगल सुफल फली की॥
आरती ..

पिय दृगमृग जुग बंधन डोर|
पीय प्रेम रस राशि किशोरी।
पिय मन गति विश्राम थली की॥
आरती ..

रूप रासि गुणनिधि जग स्वामिनि प्रेम प्रवीन राम अभिरामिनि।
सरबस धन हरिचंद अली की॥
आरती ..

जानकी माँ जी की आरती,
🪔 सीता माता (जानकी) जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Janki mata Ji Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Aarti kijiye Janak Lali ki.
Ramadhupaman kamal kali ki |
Ramchandra, mukhchandra chakori.
Antar sanvar bahar gori.
Sakal sumangal sufal phali ki ||
Aarti ..

Piya drigamrig jug bandhan dor |
Piya prem ras rashi kishori.
Piya man gati vishram thali ki ||
Aarti ..

Roop rashi gunnidhi jag swamini prem praveen Ram abhiramini.
Sarbas dhan Harichand Ali ki ||
Aarti ..

https://shriaarti.in/

जानकी माँ जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

Aarti kijiye Janak Lali ki.
Translation: Let us perform the Aarti of Janaki’s beloved daughter (Sita, the daughter of Janaka).

Ramadhupaman kamal kali ki |
Translation: The bee-like Lord Rama, the bud of the lotus (referring to his beauty and purity).

Ramchandra, mukhchandra chakori.
Translation: Ramachandra, the moon-faced one, like a chakori bird longing for the moon (symbolizing the devotee’s yearning for the divine).

Antar sanvar bahar gori.
Translation: The internal and external beauty of the fair-skinned one (referring to the beauty of Lord Rama).

Sakal sumangal sufal phali ki ||
Translation: All auspiciousness and fruitful outcomes belong to the Goddess (referring to Sita, the consort of Lord Rama).

Aarti ..
(Note: The term “Aarti” is repeated, which indicates that this is a part of the Aarti hymn.)

Piya drigamrig jug bandhan dor |
Translation: The beloved one (Lord Rama), whose glances are like ropes binding the wild deer of this world (symbolizing the captivating nature of the divine).

Piya prem ras rashi kishori.
Translation: The beloved one (Lord Rama) is like a young maiden, the embodiment of the essence of love.

Piya man gati vishram thali ki ||
Translation: The beloved one (Lord Rama), whose abode is the resting place for the heart and mind.

Aarti ..
(Note: The term “Aarti” is repeated again.)

Roop rashi gunnidhi jag swamini prem praveen Ram abhiramini.
Translation: The treasure of beauty, virtues, and the ruler of the world, the beloved one (Lord Rama), is the epitome of love and charm.

Sarbas dhan Harichand Ali ki ||
Translation: All wealth belongs to Harichandra and Ali (possibly referring to divine figures or deities).

Aarti ..
(Note: The term “Aarti” is repeated for the third time, indicating the completion of the Aarti.)

जानकी माँ जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

आरती कीजिए जनक लली की।
अनुवाद: आओ हम जानकी की प्रिय पुत्री (जनक की पुत्री सीता) की आरती करें।

रामधुपमन कमल कली की |
अनुवाद: मधुमक्खी जैसे भगवान राम, कमल की कली (उनकी सुंदरता और पवित्रता का उल्लेख करते हुए)।

रामचन्द्र, मुखचन्द्र चकोरी।
अनुवाद: चन्द्रमा के मुख वाले रामचन्द्र, चकोरी पक्षी की भाँति चन्द्रमा के लिए लालायित हैं (भक्त की परमात्मा के प्रति लालसा का प्रतीक)।

अंतर संवर बहार गोरी।
अनुवाद: गोरी चमड़ी की आंतरिक और बाहरी सुंदरता (भगवान राम की सुंदरता का संदर्भ देते हुए)।

सकल सुमंगल सुफल फली की ||
अनुवाद: सभी शुभ और फलदायी परिणाम देवी के हैं (भगवान राम की पत्नी सीता का संदर्भ देते हुए)।

आरती..
(नोट: “आरती” शब्द दोहराया गया है, जो इंगित करता है कि यह आरती भजन का एक हिस्सा है।)

पिया दृगमृग जुग बंधन डोर |
अनुवाद: प्रियतम (भगवान राम), जिनकी निगाहें इस संसार के जंगली हिरणों को बांधने वाली रस्सियों की तरह हैं (परमात्मा की मनोरम प्रकृति का प्रतीक)।

पिया प्रेम रस राशि किशोरी।
अनुवाद: प्रियतम (भगवान राम) एक युवा युवती की तरह हैं, जो प्रेम के सार का प्रतीक हैं।

पिया मन गति विश्राम थाली की ||
अनुवाद: प्रियतम (भगवान राम), जिनका निवास हृदय और मन के लिए विश्राम स्थान है।

आरती..
(नोट: “आरती” शब्द दोबारा दोहराया गया है।)

रूप राशि गुणनिधि जग स्वामिनी प्रेम प्रवीण राम अभिरामिणी।
अनुवाद: सुंदरता, गुणों का खजाना और दुनिया के शासक, प्रिय (भगवान राम), प्रेम और आकर्षण का प्रतीक हैं।

सरबस धन हरिचंद अली की ||
अनुवाद: सारी संपत्ति हरिचंद्र और अली (संभवतः दैवीय शख्सियतों या देवताओं का जिक्र) की है।

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

चालीसा संग्रह देखे – लिक

Leave a Comment