🪔 कात्यायनी माता जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

कात्यायनी माता जी की आरती (हिंदी) –

जय जय अंबे जय कात्यायनी।
जय जगमाता जग की महारानी॥

बैजनाथ स्थान तुम्हारा।
वहां वरदाती नाम पुकारा॥

कई नाम हैं कई धाम हैं।
यह स्थान भी तो सुखधाम है॥

हर मंदिर में जोत तुम्हारी।
कहीं योगेश्वरी महिमा न्यारी॥

हर जगह उत्सव होते रहते।
हर मंदिर में भक्त हैं कहते॥

कात्यायनी रक्षक काया की।
ग्रंथि काटे मोह माया की॥

झूठे मोह से छुड़ानेवाली।
अपना नाम जपानेवाली॥

बृहस्पतिवार को पूजा करियो।
ध्यान कात्यायनी का धरियो॥

हर संकट को दूर करेगी।
भंडारे भरपूर करेगी॥

जो भी मां को भक्त पुकारे।
कात्यायनी सब कष्ट निवारे॥

🪔 कात्यायनी माता जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Katyayani Mata Ji Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Jai Jai Ambe, Jai Katyayani.
Jai Jagmata, Jag ki Maharani.

Baijnath sthan tumhara,
Wahan Vardati naam pukara.

Kai naam hain, kai dhaam hain,
Yeh sthan bhi to sukhadham hain.

Har mandir mein jot tumhari,
Kahin Yogeshwari mahima nyari.

Har jagah utsav hote rahte,
Har mandir mein bhakt hain kehte.

Katyayani rakshak kaya ki,
Granthi kaate moh maya ki.

Jhuthe moh se chhudanewali,
Apna naam japanewali.

Brihaspativar ko puja kariyo,
Dhyan Katyayani ka dhariyo.

Har sankat ko door karegi,
Bhandare bharpoor karegi.

Jo bhi maa ko bhakt pukare,
Katyayani sab kasht nivare.

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

चालीसा संग्रह देखे – लिक

स्त्रोत संग्रह देखे – लिंक

Leave a Comment