🪔 श्री लड्डू गोपाल जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

श्री लड्डू गोपाल जी की आरती (हिंदी), bal gopal ki aarti –

आरती बाल कृष्ण की कीजै ।
अपना जन्म सफल कर लीजै ॥
आरती बाल कृष्ण की कीजै…

श्री यशोदा का परम दुलारा ।
बाबा के अँखियन का तारा ॥
आरती बाल कृष्ण की कीजै…

गोपियन के प्राणन से प्यारा ।
इन पर प्राण न्योछावर कीजै ॥
आरती बाल कृष्ण की कीजै…

बलदाऊ के छोटे भैया ।
कनुआ कहि कहि बोले मैया ॥
आरती बाल कृष्ण की कीजै…

परम मुदित मन लेत बलैया ।
अपना सरबस इनको दीजै ॥
आरती बाल कृष्ण की कीजै…

श्री राधावर कृष्ण कन्हैया ।
ब्रज जन को नवनीत खवैया ॥
आरती बाल कृष्ण की कीजै…

देखत ही मन लेत चुरैया ।
यह छवि नैनन में भरि लीजै ॥
आरती बाल कृष्ण की कीजै…

तोतली बोलन मधुर सुहावै ।
सखन संग खेलत सुख पावै ॥
आरती बाल कृष्ण की कीजै…

सोई सुक्ति जो इनको ध्यावे ।
अब इनको अपना करि लीजै ॥
आरती बाल कृष्ण की कीजै…

🪔 श्री लड्डू गोपाल जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF
🪔 श्री लड्डू गोपाल जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Shri Laddu Gopal Ji Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Aarti Baal Krishna Ki Keeje.
Apna Janam Safal Kar Leejen.
Aarti Baal Krishna Ki Keeje…

Shri Yashoda Ka Param Dulara.
Baba Ke Ankhiyan Ka Tara.
Aarti Baal Krishna Ki Keeje…

Gopiyan Ke Pranan Se Pyara.
In Pe Pran Nyochavar Keeje.
Aarti Baal Krishna Ki Keeje…

Baldau Ke Chote Bhaiya.
Kanua Kahi Kahi Bole Maiya.
Aarti Baal Krishna Ki Keeje…

Param Mudit Man Let Balaiya.
Ye Chavi Nainan Mein Bhar Leeje.
Aarti Baal Krishna Ki Keeje…

Shri Radhavar Kunwar Kanahiya.
Braj Jan Ko Navneet Khavaiya.
Aarti Baal Krishna Ki Keeje…

Dekhat Hi Man Lait Churaiya.
Apno Sarvas Inko Deeje.
Aarti Baal Krishna Ki Keeje…

Totali Bolan Madhur Suhave.
Sakhan Sang Khelat Sukh Pave.
Aarti Baal Krishna Ki Keeje…

Soi Sukati Jo Inko Dhyave.
Ab Inko Apna Kar Leejen.
Aarti Baal Krishna Ki Keeje…

https://shriaarti.in/

श्री लड्डू गोपाल जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti (a Hindu ritual of worship involving light) of young Krishna.

Apna Janam Safal Kar Leejen – Make your life successful.

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti of young Krishna.

Shri Yashoda Ka Param Dulara – The most beloved son of Mother Yashoda.

Baba Ke Ankhiyan Ka Tara – The star of the eyes of his father.

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti of young Krishna.

Gopiyan Ke Pranan Se Pyara – More dear to the lives of the Gopis (cowherd girls).

In Pe Pran Nyochavar Keeje – Offer your life to him.

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti of young Krishna.

Baldau Ke Chote Bhaiya – The younger brother of Balarama.

Kanua Kahi Kahi Bole Maiya – Mother Yashoda hears his sweet voice calling out for her.

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti of young Krishna.

Param Mudit Man Let Balaiya – He brings great joy to the hearts of those who embrace him.

Ye Chavi Nainan Mein Bhar Leeje – Fill this image in your eyes.

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti of young Krishna.

Shri Radhavar Kunwar Kanahiya – The prince of Radha, the beloved of Kanha.

Braj Jan Ko Navneet Khavaiya – Feeds the people of Braj with butter.

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti of young Krishna.

Dekhat Hi Man Lait Churaiya – By just seeing him, he steals our hearts.

Apno Sarvas Inko Deeje – Give him everything you have.

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti of young Krishna.

Totali Bolan Madhur Suhave – His sweet words please everyone.

Sakhan Sang Khelat Sukh Pave – He plays with his friends and brings them joy.

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti of young Krishna.

Soi Sukati Jo Inko Dhyave – He who meditates on him finds peace.

Ab Inko Apna Kar Leejen – Now make him your own.

Aarti Baal Krishna Ki Keeje – Perform the Aarti of young Krishna.

श्री लड्डू गोपाल जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती (प्रकाश से जुड़ी पूजा का एक हिंदू अनुष्ठान) करें।

अपना जन्म सफल कर लीजें – अपना जीवन सफल बनाएं।

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती करें।

श्री यशोदा का परम दुलारा – माता यशोदा के परम प्रिय पुत्र।

बाबा के अंखियां का तारा – अपने पिता की आंखों का तारा।

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती करें।

गोपियां के प्राण से प्यारा – गोपियों (चरवाहों) के जीवन को अधिक प्रिय।

पे प्राण न्योछावर कीजे में – अपना जीवन उन्हें अर्पण कर दो।

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती करें।

बलदाऊ के छोटे भैया – बलराम के छोटे भाई।

कनुआ कही कही बोले मैया – माता यशोदा उनकी मधुर वाणी को पुकारती सुनती हैं।

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती करें।

परम मुदित पुरुष लेट बलैया – वे अपने आलिंगन करने वालों के हृदय में अपार आनंद लाते हैं।

ये छवि नैनन में भर लीजे – इस छवि को अपनी आंखों में भर लें।

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती करें।

श्री राधावर कुंवर कन्हैया – कान्हा के प्रिय राधा के राजकुमार।

ब्रज जन को नवनीत खवैया – ब्रजवासियों को माखन खिलाती है।

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती करें।

देखती ही मन लइत चुरैया – बस उसे देखकर, वह हमारा दिल चुरा लेता है।

Apno Sarvas Inko Deeje – उसे सब कुछ दे दो जो तुम्हारे पास है।

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती करें।

टोटली बोलन मधुर सुहावे – उनकी मीठी वाणी सबको भाती है।

सखन संग खेलत सुख पावे – वह अपने दोस्तों के साथ खेलता है और उन्हें आनंदित करता है।

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती करें।

सोइ सुकति जो इनको ध्याने – जो उनका ध्यान करता है उसे शांति मिलती है।

अब इनको अपना कर लीजें – अब उसे अपना बना लो।

आरती बाल कृष्ण की कीजे – युवा कृष्ण की आरती करें।

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

श्री लड्डू गोपाल जी की आरती: विस्तृत जानकारी

श्री लड्डू गोपाल जी की आरती एक प्रसिद्ध आरती है जो भगवान कृष्ण के बचपन के रूप में जाने जाने वाले लड्डू गोपाल जी को समर्पित है। इस आरती का उद्देश्य भगवान कृष्ण के लिए भक्ति और समर्पण का व्यक्त करना है।

श्री लड्डू गोपाल जी की आरती में भक्त भगवान कृष्ण के बचपन की लीलाओं को स्मरण करते हैं। इस आरती में भक्त श्री लड्डू गोपाल जी को उनके बचपन के रूप में भगवान कृष्ण के साथ जोड़ते हैं। इस आरती को रोजाना समय-समय पर पढ़ा जाता है और इसके बाद भक्त भगवान कृष्ण का भोग लगाते हैं।

श्री लड्डू गोपाल जी कौन हैं?

उनका इतिहास

श्री लड्डू गोपाल जी भगवान श्री कृष्ण के बाल स्वरूप हैं जो उनके बचपन के दिनों को दर्शाते हैं। इन्हें लड्डू गोपाल के नाम से भी जाना जाता है।

श्री लड्डू गोपाल जी को बचपन से ही कृष्ण भगवान के रूप में पूजा जाता है। इन्हें बच्चों की तरह संभाला जाता है और उन्हें खिलाया जाता है। उन्हें बचपन की यादें ताजगी से याद दिलाने के लिए उनकी आरती भी गाई जाती है।

आरती विधि

श्री लड्डू गोपाल जी की आरती को समर्पित करने के लिए, सबसे पहले आरती करने वाले को अपने हाथों में दीपक लेना होगा। फिर उस दीपक में घी डालकर उसे जलाना होगा। आरती करने वाले को अपने हाथों में थाली लेनी होगी। उस थाली में फूल, धूप, अखंड ज्योत, लंगोट, वस्त्र, मिठाई आदि रखा जाता है।

फिर आरती करने वाला व्यक्ति दोनों हाथों में थाली लेकर आरती के लिए तैयार हो जाता है। उसे आरती की शुरुआत करनी होगी और फिर उसे लड्डू गोपाल के सामने घूमानी होगी। आरती करते समय गीत गाए जाते हैं जो लड्डू गोपाल की महिमा का वर्णन करते हैं।

आरती करते समय धूप का उपयोग किया जाता है जो लड्डू गोपाल को समर्पित होता है। आरती करने के बाद, लंगोट, वस्त्र और अन्य सामग्री को लड्डू गोपाल को दान किया जाता है।

श्री लड्डू गोपाल जी की आरती का महत्व

धार्मिक महत्व

लड्डू गोपाल जी की आरती हिंदू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण होती है। इस आरती को करने से लोग अपने घर में खुशहाली और सुख शांति की प्राप्ति करते हैं। इसके अलावा, लड्डू गोपाल जी की आरती करने से भगवान लड्डू गोपाल जी की कृपा प्राप्त होती है और उनके जीवन में सुख, समृद्धि और सफलता की प्राप्ति होती है।

आध्यात्मिक महत्व

लड्डू गोपाल जी की आरती करने से लोग अपनी आध्यात्मिक उन्नति में भी बढ़ोतरी प्राप्त करते हैं। इस आरती को करने से लोग भगवान लड्डू गोपाल जी के साथ अपने मन को शुद्ध करते हैं और उनसे अपने जीवन के संबंध में सलाह लेते हैं। इसके अलावा, लड्डू गोपाल जी की आरती करने से लोग अपने आप को भगवान से जोड़ते हैं और उनके जीवन में आनंद और सुख का अनुभव करते हैं।

महत्वपूर्ण प्रश्न –

आरती बाल कृष्ण की कीजे करने का क्या महत्व है?

माना जाता है कि आरती बाल कृष्ण की कीजे करने से व्यक्ति के जन्म और जीवन में सफलता मिलती है। कहा जाता है कि यह उन लोगों के दिलों में अपार खुशी लाता है जो युवा कृष्ण को गले लगाते हैं और अपना जीवन उन्हें समर्पित करते हैं।

युवा कृष्ण का ध्यान करने के क्या लाभ हैं?

माना जाता है कि युवा कृष्ण का ध्यान करने से मन और आत्मा को शांति मिलती है।

Leave a Comment