🪔श्री सालासर बालाजी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

श्री सालासर बालाजी की आरती (हिंदी) श्री सालासर बालाजी की आरती (हनुमान), Shri Salasar Balaji Ki Aarti (Hanuman) –

जयति जय जय बजरंग बाला, कृपा कर सालासर वाला ॥

चैत सुदी पूनम को जन्मे, अंजनी पवन खुशी मन में।
प्रकट भए सुर वानर तन में, विदित यश विक्रम त्रिभुवन में।
दूध पीवत स्तन मात के, नजर गई नभ ओर।
तब जननी की गोद से पहुंच, उदयाचल पर भोर।
अरुण फल लखि रवि मुख डाला॥
कृपा कर सालासर वाला …

तिमिर भूमण्डल में छाई, चिबुक पर इंद्र वज्र बाए।
तभी से हनुमत कहलाए, द्वय हनुमान नाम पाए।
उस अवसर में रुक गयो, पवन सर्व उन्चास।
इधर हो गयो अंधकार, उत रुक्यो विश्व को श्वास।
भए ब्रह्मादिक बेहाला।।
कृपा कर सालासर वाला …

देव सब आए तुम्हारे आगे, सकल मिल विनय करन लागे।
पवन कू भी लाए सांगे, क्रोध सब पवन तना भागे।
सभी देवता वर दियो, अरज करी कर जोड़।
सुनके सबकी अरज गरज, लखि दिया रवि को छोड़।
हो गया जग में उजियाला॥
कृपा कर सालासर वाला …

रहे सुग्रीव पास जाई, आ गए वन में रघुराई।
हरी रावण सीतामाई, विकल फिरते दोनों भाई।
विप्र रूप धरि राम को, कहा आप सब हाल।
कपि पति से करवाई मित्रता, मार दिया कपि बाल।
दुःख सुग्रीव तना टाला॥
कृपा कर सालासर वाला …

आज्ञा ले रघुपति की धाया, लंक में सिंधु लांघ आया।
हाल सीता का लख पाया, मुद्रिका दे वनफल खाया।
वन विध्वंस दशकंध सुत, वध कर लंक जलाय।
चूड़ामणि संदेश सिया का, दिया राम को आय।
हुए खुश त्रिभुवन भूपाला॥
कृपा कर सालासर वाला …

जोड़ी कपि दल रघुवर चाला, कटक हित सिंधु बांध डाला।
युद्ध रच दीन्हा विकराला, कियो राक्षसकुल पैमाला।
लक्ष्मण को शक्ति लगी, लायौ गिरी उठाय।
देइ संजीवन लखन जियाए, रघुबर हर्ष सवाय।
गरब सब रावन का गाला॥
कृपा कर सालासर वाला …

रची अहिरावन ने माया, सोवते राम लखन लाया।
बने वहां देवी की काया, करने को अपना चित चाया।
अहिरावन रावन हत्यौ, फेर हाथ को हाथ।
मंत्र विभीषण पाय आप को, हो गयो लंका नाथ।
खुल गया करमा का ताला।।
कृपा कर सालासर वाला …

अयोध्या राम राज्य कीना, आपको दास बना दीना।
अतुल बल घृत सिंदूर दीना, लसत तन रूप रंग भीना।
चिरंजीव प्रभु ने कियो, जग में दियो पुजाय।
जो कोई निश्चय कर के ध्यावे, ताकी करो सहाय।
कष्ट सब भक्तन का टाला॥
कृपा कर सालासर वाला …

भक्तजन चरण कमल सेवे, जात आत सालासर देवे।
ध्वजा नारियल भोग देवे, मनोरथ सिद्धि कर लेवे।
कारज सारों भक्त के, सदा करो कल्याण।
विप्र निवासी लक्ष्मणगढ़ के, बालकृष्ण धर ध्यान।
नाम की जपे सदा माला॥
कृपा कर सालासर वाला …

श्री सालासर बालाजी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

SALASAR BALAJI Ji Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Jayati Jay Jay Bajrang Baala, Kripa Kar Salasar Vaala.
Chait Sudi Punam Ko Janme, Anjani Pavan Khushi Man Mein.
Prakat Bhaye Sur Vaanar Tan Mein,Vidit Yash Vikram Tribhuvan Mein.
Dudh Pivat Stan Maat Ke, Najar Gai Nabh Or.
Tab Janani Ki God Se Pahunch, Udayaachal Par Bhor.
Arun Phal Lakhi Ravi Mukh Daalaa.
Kripa Kar Salasar Vaala

Timir Bhumandal Mein Chhaai, Chibuk Par Indra Vajr Baaye.
Tabhi Se Hanumat Kahalaae, Dvay Hanumaan Naam Paaye.
Us Avasar Mein Ruk Gayo, Pavan Sarv Unchaas.
Idhar Ho Gayo Andhakaar, Ut Rukyo Vishv Ko Shvaas.
Bhaye Brahmadik Behaalaa.
Kripa Kar Salasar Vaala

Dev Sab Aaye Tumhaare Aage, Sakal Mil Vinay Karan Laage.
Pavan Ku Bhi Laaye Saange, Krodh Sab Pavan Tanaa Bhaage.
Sabhi Devataa Var Diyo, Araj Kari Kar Jod.
Sunake Sabaki Araj Garaj, Lakhi Diyaa Ravi Ko Chhod.
Ho Gayaa Jag Mein Ujiyaala.
Kripa Kar Salasar Vaala

Rahe Sugriv Paas Jaai, Aa Gaye Van Mein Raghuraai.
Hari Ravan Sitamai, Vikal Phirate Dono Bhai.
Vipra Roop Dhari Ram Ko, Kahaa Aap Sab Haal.
Kapi Pati Se Karavaai Mitrataa, Maar Diyaa Kapi Baal.
Dukh Sugriv Tanaa Taalaa.
Kripa Kar Salasar Vaala

Aagya Le Raghupati Ki Dhaaya, Lank Mein Sindhu Laangh Aayaa.
Haal Sita Ka Lakh Paaya, Mudrika De Vanphal Khaaya.
Van Vidhvans Dashakandh Sut, Vadh Kar Lank Jalaay.
Chudamani Sandesh Siya Ka, Diya Ram Ko Aay.
Huye Khush Tribhuvan Bhupaala.
Kripa Kar Salasar Vaala

Jodi Kapi Dal Raghuvar Chaala, Katak Hit Sindhu Baandh Daala.
Yuddh Rach Dinha Vikaraala, Kiyo Raakshas Kul Paimaala.
Lakshaman Ko Shakti Lagi, Laayau Giri Uthaay.
Deyi Sanjivan Lakhan Jiyaae, Raghubar Harsh Savaay.
Garab Sab Raavan Ka Gaala.
Kripa Kar Salasar Vaala

Rachi Ahiravan Ne Maaya, Sovate Raam Lakhan Laaya.
Bane Vaha Devi Ki Kaaya, Karne Ko Apanaa Chit Chaaya.
Ahiraavan Raavan Hatyau, Fer Haath Ko Haath.
Mantra Vibhishan Paay Aap Ko, Ho Gayo Lankaa Naath.
Khul Gayaa Karma Ka Taala.
Kripa Kar Salasar Vaala

Ayodhya Ram Rajy Kina, Aapko Daas Banaa Dinaa.
Atul Bal Ghrit Sindur Dina, Lasat Tan Rup Rang Bhina.
Chiranjiv Prabhu Ne Kiyo, Jag Mein Diyo Pujaay.
Jo Koi Nishchay Karake Dhyaave, Taaki Karo Sahaay.
Kasht Sab Bhaktan Kaa Taala.
Kripa Kar Salasar Vaala

Bhaktajan Charan Kamal Seve, Jaat Aat Salasar Deve.
Dhvaja Nariyal Bhog Deve, Manorath Siddhi Kar Leve.
Kaaraj Saaro Bhakt Ke, Sadaa Karo Kalyaan.
Vipra Nivaasi Lakshamanagadh Ke, Balkrishna Dhar Dhyaan.
Naam Ki Jape Sada Mala.
Kripa Kar Salasar Vaala
Jay Shri Salasar Balaji Maharaj

https://shriaarti.in/

श्री सालासर बालाजी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

Glory to Bajrang Bala (another name for Hanuman), the savior of his devotees. Kind and merciful Salasar Wala bless us. The one who was born from the womb of Anjani on the full moon day of Chaitra with the joy of Pawan (the wind god). He who appeared in the form of a divine monkey, known for his valor and fame in all the three worlds. Who drank milk from his mother’s breast and looked at the sky. He who reached the top of Udayachal mountain carried by his mother. The one who brought the sunrise with his red face. Kind and merciful Salasar Wala bless us.

Darkness spread all over the world, when Indra’s thunderbolt hit Hanuman’s jaw. That’s why he was named Hanumat and he adopted the double name Hanuman. The one that stopped there and remained hanging in the air. The world was without breath as darkness fell. All the deities came to him and prayed humbly. Even the wind god pacified his anger. All the gods gave him their blessings as he joined hands to make his request. When he heard their humble request, he blessed them, and the sun shone all over the world. Kind and merciful Salasar Wala bless us.

While Sugriva stayed with Rama, Raghuraya went to the forest. Both Hari (Rama) and Ravana (the demon king) were wandering in search of Sita (Rama’s wife). Rama assumed the form of a sage and inquired about everyone’s well-being. He befriended the leader of the apes and killed the monkey’s son. The pain went away when Sugriva crushed his enemies. Kind and merciful Salasar Wala bless us.

Taking the orders of Raghupati (Ram), Hanuman crossed the sea and reached Lanka. Sita’s condition is revealed and she is given a ring. Ravana, the ten-headed demon king, was killed and Lanka was burnt. Hanuman brought back Sita’s message and gave it to Rama. There was joy in all the three worlds. Kind and merciful Salasar Wala bless us.

With the help of Hanuman, Raghu’s army reached the sea shore and built a bridge. There was a fierce war and the clan of demons was destroyed. Lakshmana was injured, and a mountain was lifted. Sanjivani booti was given to Lakshmana, and Rama was overjoyed. All the pride of Ravana was shattered. Kind and merciful Salasar Wala bless us.

Ahiravana created an illusion, and Rama and Lakshmana were taken away while they were asleep. The goddess assumed the form of Ahiravana’s wife to bring back her husband’s consciousness. Ahiravana was killed and his hands were cut off. Vibhishana received the mantra, and he became the ruler of Lanka. Karma’s door opened. Kind and merciful Salasar Wala bless us.

Rachi Ahiravana brought Maya, Sowte Ram Lakhan. Ahiravana conspired to catch Lord Rama and his brother Lakshmana while they were sleeping.
Become the body of the goddess there, to do your mind’s shadow. – Goddess Kali assumed a form to help Lord Rama in his fight against Ahiravana.
Ahiravan kills Ravan, hand to hand. Ahiravana was killed by Lord Rama and Lakshmana.


May you get the mantra Vibhishan, be sung Lanka Nath. Vibhishana, the younger brother of the demon king Ravana, joined Lord Rama and helped him defeat Ravana, the king of Lanka.


Karma’s lock opened. Salasar wala please. – The wheel of karma is opened, and blessings of Salasar Balaji Maharaj are sought.
Ayodhya Ram Rajya Kina, made you a slave. Lord Rama established his kingdom in Ayodhya and made his devotees his servants.


Atul Bal ghrita vermilion dina, lasat tan rupa bhina. Lord Rama was the embodiment of power and beauty.
Chiranjeev Prabhu did, worshiped in the world. Lord Rama is still worshiped by the devotees as an eternal deity.


Whoever makes up his mind, please help me. – Those who have strong faith and devotion in Lord Rama, he will help them in their difficult times.
Suffering is the lock of all devotees. Salasar wala please. – The locks of the difficulties of the devotees have been opened and the blessings of Salasar Balaji Maharaj have been sought.


Devotees will serve the lotus feet, Jaats will give you Salasar. Devotees serve the lotus feet of Salasar Balaji Maharaj and seek his blessings.
Dhwaja Nariyal Bhog deve, manorath siddhi leve. Devotees offer flags and coconuts to Salasar Balaji Maharaj and get their wishes fulfilled.


Do the work of all the devotees, always do good. Salasar Balaji Maharaj always works for the welfare of his devotees.


Vipra resident of Laxmangarh, Balkrishna Dhar Dhyan. Along with Salasar Balaji Maharaj, Lord Lakshmana and Lord Krishna are also worshiped in Lakshmannagar, where many Brahmins reside.


Always chant the name. Salasar wala please. – Devotees always chant the name of Salasar Balaji Maharaj to get his blessings.


Jai Shri Salasar Balaji Maharaj. – Glory to Salasar Balaji Maharaj.

श्री सालासर बालाजी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

अपने भक्तों के उद्धारकर्ता बजरंग बाला (हनुमान का दूसरा नाम) की जय। दयालु और दयालु सालासर वाला हम पर कृपा करें। वह जो चैत्र की पूर्णिमा के दिन अंजनी के गर्भ से पवन (पवन देवता) के हर्ष के साथ पैदा हुआ था। वह जो एक दिव्य बंदर के रूप में प्रकट हुआ, जो तीनों लोकों में अपनी वीरता और प्रसिद्धि के लिए जाना जाता है। जिसने अपनी माँ के स्तन से दूध पिया और आकाश को देखा। वह जो अपनी माँ द्वारा उठाए गए उदयाचल पर्वत की चोटी पर पहुँचे। वह जो अपने लाल चेहरे के साथ सूर्योदय लाया। दयालु और दयालु सालासर वाला हम पर कृपा करें।

पूरी दुनिया में फैल गया अंधेरा, जब इंद्र का वज्र हनुमान के जबड़े में लगा। तभी उनका नाम हनुमत रखा गया और उन्होंने दोहरा नाम हनुमान धारण किया। वह जो वहीं रुक गया और हवा में लटका रहा। अंधेरा छा जाने के कारण दुनिया बिना सांस के थी। सभी देवता उनके पास आए और विनम्रतापूर्वक प्रार्थना की। यहाँ तक कि पवन देवता ने भी उनके क्रोध को शांत किया। सभी देवताओं ने उन्हें अपना आशीर्वाद दिया, क्योंकि उन्होंने अपना अनुरोध करने के लिए हाथ मिलाया। जब उसने उनके विनम्र अनुरोध को सुना, तो उसने उन्हें आशीर्वाद दिया, और सूर्य पूरे विश्व में चमक उठा। दयालु और दयालु सालासर वाला हम पर कृपा करें।

जब सुग्रीव राम के पास रहे, तो रघुराय वन चले गए। हरि (राम) और रावण (राक्षस राजा) दोनों सीता (राम की पत्नी) की तलाश में भटक रहे थे। राम ने एक ऋषि का रूप धारण किया और उन्होंने सभी की कुशलक्षेम पूछी। उसने वानरों के नेता से दोस्ती की और बंदर के बेटे को मार डाला। दर्द तब दूर हुआ जब सुग्रीव ने अपने शत्रुओं को कुचल डाला। दयालु और दयालु सालासर वाला हम पर कृपा करें।

रघुपति (राम) की आज्ञा लेकर हनुमान समुद्र पार करके लंका पहुंचे। सीता की स्थिति का पता चला और उन्हें एक अंगूठी दी गई। दस सिर वाले राक्षस राजा रावण को मार डाला गया और लंका को जला दिया गया। हनुमान ने सीता का संदेश वापस लाकर राम को दिया। तीनों लोकों में हर्ष छा गया। दयालु और दयालु सालासर वाला हम पर कृपा करें।

हनुमान की सहायता से रघु की सेना समुद्र के किनारे पहुँची और एक पुल का निर्माण किया। घोर युद्ध हुआ और दैत्यों के कुल का नाश हो गया। लक्ष्मण घायल हो गए, और एक पहाड़ उठा लिया गया। संजीवनी बूटी लक्ष्मण को दी गई, और राम बहुत खुश हुए। रावण का सारा घमंड चूर-चूर हो गया। दयालु और दयालु सालासर वाला हम पर कृपा करें।

अहिरावण ने एक भ्रम पैदा किया, और राम और लक्ष्मण को सोते समय ले जाया गया। देवी ने अपने पति की चेतना वापस लाने के लिए अहिरावण की पत्नी का रूप धारण किया। अहिरावण मारा गया और उसके हाथ काट दिए गए। विभीषण ने मंत्र प्राप्त किया, और वह लंका का शासक बन गया। कर्म का द्वार खुल गया। दयालु और दयालु सालासर वाला हम पर कृपा करें।

रचि अहिरावण ने माया, सोवते राम लखन लाया। – अहिरावण ने भगवान राम और उनके भाई लक्ष्मण को सोते समय पकड़ने की साजिश रची।
बने वहा देवी की काया, करने को अपना चित छाया। – देवी काली ने अहिरावण के खिलाफ भगवान राम की लड़ाई में मदद करने के लिए एक रूप धारण किया।

अहिरावन रावण हत्यु, फेर हाथ को हाथ। – अहिरावण का वध भगवान राम और लक्ष्मण ने किया था।
मंत्र विभीषण पाय आप को, हो गायो लंका नाथ। – राक्षस राजा रावण के छोटे भाई विभीषण, भगवान राम के साथ शामिल हुए और लंका के राजा रावण को हराने में उनकी मदद की।
खुल गया कर्मा का ताला। कृपा कर सालासर वाला। – कर्म के चक्र को खोल दिया गया है, और सालासर बालाजी महाराज का आशीर्वाद मांगा गया है।

अयोध्या राम राज्य किना, आपको दास बनाया दिना। – भगवान राम ने अयोध्या में अपना राज्य स्थापित किया और अपने भक्तों को अपना सेवक बनाया।
अतुल बल घृत सिंदूर दीना, लसत तन रूप रंग भीना। – भगवान राम शक्ति और सौंदर्य के अवतार थे।

चिरंजीव प्रभु ने कियो, जग में दियो पूजा। – भगवान राम को आज भी एक शाश्वत देवता के रूप में भक्तों द्वारा पूजा जाता है।
जो कोई निश्चय करे ध्यावे, ताकी करो सहाय। – जो लोग भगवान राम में दृढ़ विश्वास और भक्ति रखते हैं, वे उनके कठिन समय में उनकी मदद करेंगे।

कष्ट सब भक्तन का ताला। कृपा कर सालासर वाला। – भक्तों की मुश्किलों के ताले खुल गए हैं और सालासर बालाजी महाराज का आशीर्वाद मांगा गया है.
भक्तजन चरण कमल सेवे, जाट आत सालासर देवे। – भक्त सालासर बालाजी महाराज के चरण कमलों की सेवा करते हैं और उनका आशीर्वाद लेते हैं।

ध्वजा नारियाल भोग देवे, मनोरथ सिद्धि कर लेवे। – भक्त सालासर बालाजी महाराज को झंडे और नारियल चढ़ाते हैं और अपनी मनोकामना पूरी करते हैं।
कारज सारो भक्त के, सदा करो कल्याण। – सालासर बालाजी महाराज हमेशा अपने भक्तों के कल्याण के लिए कार्य करते हैं।

विप्र निवासी लक्ष्मणगढ़ के, बालकृष्ण धर ध्यान। – लक्ष्मणनगर में सालासर बालाजी महाराज के साथ भगवान लक्ष्मण और भगवान कृष्ण की भी पूजा की जाती है, जहां कई ब्राह्मण निवास करते हैं।
नाम की जपे सदा माला। कृपा कर सालासर वाला। – भक्त हमेशा उनका आशीर्वाद पाने के लिए सालासर बालाजी महाराज के नाम का जाप करते हैं।
जय श्री सालासर बालाजी महाराज। – सालासर बालाजी महाराज की जय।

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

चालीसा संग्रह देखे – लिंक

महत्वपूर्ण प्रश्न –

सालासर में किसकी मूर्ति है?

सालासर भगवान श्री हनुमान जी की मूर्ति है।

सालासर बालाजी कौन से राज्य में है?

सालासर राजस्थान के चुरू जिले में जयपुर और अंबाला के बीच राजमार्ग पर स्थित है।


सालासर बालाजी इतना प्रसिद्ध क्यों है?

सालासर बालाजी मंदिर भारत में हनुमान जी के भक्तों के लिए धार्मिक महत्व का स्थान है। मंदिर की मूर्ति बड़े ही चमत्कारिक ढंग से प्रकट हुई थी। इसलिए ये प्रसिद्ध है।

Leave a Comment