श्री चौबीस तीर्थंकर भगवान की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

श्री चौबीस तीर्थंकर भगवान की आरती (हिंदी) –

करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे,
करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

ऋषभ, अजित, संभव जिन-स्वामी,
अभिनंदन भगवान, जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

सुमति, पद्म, सुपार्श्व जिन-स्वामी,
चंद्रप्रभु भगवान, जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

पुष्पदन्त, शीतल, श्रेयांस जिन-स्वामी,
वासुपूज्य भगवान, जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

विमल, अनंत, धर्म जिन-स्वामी,
शांतिनाथ भगवान, जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

कुन्थु, अरह, मल्लि जिन-स्वामी,
मुनिसुव्रत भगवान, जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

नमि, नेमी, पारस जिन-स्वामी,
महावीर भगवन, जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

चौबीसों के चरण कमल पर वंदन बारम्बार,
जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

कर दो बेडा पार, जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे,
रख लो मेरी लाज, जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

करहूँ आरती आज जिनेश्वर तुम्हरे द्वारे

Chaubis Tirthankar Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara,
Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara

Rishabh, Ajit, Sambhav Jin-swami,
Abhinandan Bhagwan, jineshwar tumhare dwara

Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara

Sumati, Padm, Suparshv Jin-swami,
Chandraprabhu Bhagwan, jineshwar tumhare dwara

Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara

Pushpadant, Sheetla, Shreyans Jin-swami,
Vasupoojya Bhagwan, jineshwar tumhare dwara

Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara

Vimal, Anant, Dharma Jin-swami,
Shantinath Bhagwan, jineshwar tumhare dwara

Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara

Kunthu, Arah, Malli Jin-swami,
Munisuvrat Bhagwan, jineshwar tumhare dwara

Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara

Nami, Nemi, Paras Jin-swami,
Mahavir Bhagwan, jineshwar tumhare dwara

Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara

Chaubeeson ke charan kamal par vandan baarbaar,
Jineshwar tumhare dwara

Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara

Kar do beda paar, jineshwar tumhare dwara,
Rakh lo meri laaj, jineshwar tumhare dwara

Karhun aarti aaj jineshwar tumhare dwara

https://shriaarti.in/

श्री चौबीस तीर्थंकर भगवान की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

“Today, O Jineshwar, I perform aarti (a Hindu worship ritual involving the waving of lamps) at your door.”
“O Jina-lord, Conqueror, Invincible, Possible, O Lord Jinendra, I salute you at your door.”
“O Jina-Swami, Sumati, Padma and Suparshva, O Lord Chandraprabhu, I worship you at your door.”
“O Jin-lords, Pushpadanta, Sheetal, and Shreyansa, O Lord Vasupujya, I worship you at your door.”
“O Jina-Swami, Vimala, Ananta, and Dharma, O Lord Shantinatha, I pay obeisance to you at your door.”
“O Jin-lords, Kunthu, Ara, and Malli, O Lord Munisuvrata, I bow to you at your door.”
“O Jin-Swami, Nami, Nemi and Paras, O Lord Mahavira, I pay obeisance to you at your door.”
“O Jineshvara, I bow again and again to the lotus feet of the twenty-four Tirthankaras at your door.”
“O Jineshwar, help me cross this material ocean; O Jineshwar, protect my honor at your door.”

श्री चौबीस तीर्थंकर भगवान की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

“आज, हे जिनेश्वर, मैं आपके द्वार पर आरती (एक हिंदू पूजा अनुष्ठान जिसमें दीपक लहराना शामिल है) करता हूं।”
“हे जिन-स्वामी, विजेता, अजेय, संभव, हे भगवान जिनेंद्र, मैं आपके द्वार पर आपको नमस्कार करता हूं।”
“हे जिन-स्वामी, सुमति, पद्म और सुपार्श्व, हे भगवान चंद्रप्रभु, मैं आपके द्वार पर आपकी पूजा करता हूं।”
“हे जिन-स्वामी, पुष्पदंत, शीतल, और श्रेयांस, हे भगवान वासुपूज्य, मैं आपके द्वार पर आपकी पूजा करता हूं।”
“हे जिन-स्वामी, विमला, अनंत, और धर्म, हे भगवान शांतिनाथ, मैं आपके द्वार पर आपका आदर करता हूं।”
“हे जिन-स्वामी, कुंथु, आरा, और मल्ली, हे भगवान मुनिसुव्रत, मैं आपके द्वार पर आपको प्रणाम करता हूं।”
“हे जिन-स्वामी, नामी, नेमी और पारस, हे भगवान महावीर, मैं आपके द्वार पर आपको श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।”
“हे जिनेश्वर, मैं आपके द्वार पर चौबीस तीर्थंकरों के चरण कमलों को बार-बार नमस्कार करता हूं।”
“हे जिनेश्वर, मुझे इस भवसागर से पार करने में मदद करो, हे जिनेश्वर, अपने द्वार पर मेरे सम्मान की रक्षा करो।”

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

Leave a Comment