🪔 चार धाम की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

चार धाम की आरती (हिंदी) –

चलो रे साधो चलो रे सन्तो चन्दन तलाब में नहायस्याँ
दर्शन ध्यों जगन्नाथ स्वामी, फेर जन्म नाही पायस्याँ ||

चलो रे साधो चलो रे सन्तो, रत्नागर सागर नहायस्याँ
दर्शन ध्यों रामनाथ स्वामी, फेर जन्म नहीं पायस्याँ ||

चलो रे साधो चलो रे सन्तो, गोमती गंगा में नहायस्याँ
दर्शन ध्यो रणछोड़ टीकम, फेर जन्म नही पायस्याँ ||

चलो रे साधो चलो रे सन्तो, तपत कुण्ड में नहायस्याँ
दर्शन ध्यो बद्रीनाथ स्वामी, फेर जन्म नही पायस्याँ ||

कुण दिशा जगन्नाथ स्वामी, कुण दिशा रामनाथ जी
कुण दिशा रणछोड़ टीकम, कुण दिशा बद्रीनाथ जी ||

पूरब दिशा जगन्नाथ स्वामी, दखिन दिशा रामनाथ जी
पश्चिम दिशा रणछोड़ टीकम, उत्तर दिशा बद्रीनाथ जी ||

केर चढ़े जगन्नाथ स्वामी, केर चढ़े रामनाथ जी
केर चढ़े रणछोड़ टीकम, केर चढ़े बद्रीनाथ जी ||

अटको चढ़े जगन्नाथ स्वामी, गंगा चढ़े रामनाथ जी
माखन मिसरी रणछोड़ टीकम, दल चढ़े बद्रीनाथ जी ||

केर करन जगन्नाथ स्वामी, केर करण रामनाथ जी
केर करन रणछोड़ टीकम, केर करण बद्रीनाथ जी ||

भोग करन जगन्नाथ स्वामी, जोग करन रामनाथ जी
राज करण रणछोड़ टीकम, तप करन बद्रीनाथ जी ||

केर हेतु जगन्नाथ जी केर हेतु रामनाथ जी
केर हेतु रणछोड़ टीकम, केर हेतु बद्रीनाथ जी ||

पुत्र हेतु जगन्नाथ स्वामी, लक्ष्मी हेतु रामनाथ जी
भक्ति हेतु रणछोड़ टीकम, मुक्ति हेतु बद्रीनाथ जी ||

चार धाम अपार महिमा, प्रेम सहित जो गायसी
लख चौरासी जुण छूटै फेर जन्म नही पायसी ||

🪔 चार धाम की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Char Dham Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Chaalo Re Sadho Chaalo Re Santo
Chandan Talab Mein Nahaysyaan..
Darsan Dhayo Jagannath Swami
Pher Janam Nihi Paaysyaan.

Chaalo Re Sadho Chaalo Re Santo
Ratnagar Sagar Nahaysyaan..
Darsan Dhyo Raamnath Swami
Pher Janam Nahi Paaysyaan.

Chaalo Re Sadho Chaalo Re Santo
Gomti Ganga Mein Nahaysyaan..
Darsan Dhyo Ranchhod Tikam
Pher Janam Nahi Paaysyaan.

Chaalo Re Sadho Chaalo Re Santo
Tapat Kund Mein Nahaysyaan..
Darsan Dhyo Badirinath Swami
Pher Janam Nahi Paaysyaan.

Kund Darsan Jaganaath Ji
Kund Darsan Raamnath Ji
Kun Disha Ranchhod Tikam
Kun Disha Badrinath Ji

Purab Disha Jaganaath Swami
Dakshin Disha Raamnath Ji
Ker Chadhe Ranchhod Tikam
Ker Chadhe Badrinath Ji

Atko Chadhe Jagannath Swami
Ganga Chadhe Raamnath Ji
Maakhan Misri Ranchhod Tikam
Dal Chadhe Badrinath Ji

Ker Karan Jagannath Swami
Jog Karan Raamnath Ji
Ker Karan Ranchhod Tikam
Ker Karan Badrinath Ji.

Bhog Karan Jagannath Swami
Jog Karan Raamnath Ji.
Raaj Karan Raamnath tikam
Tap Karan Badrinath Ji.

Ker Hetu Jagannath ji
Ker hetu Raamnath Ji.
Ker Hetu Ranchhod tikam
Ker Hetu Badrinath Ji.

Putra Hetu Jagannath Swami
Lakshmi Hetu Raamnath Ji.
Bhakti Hetu Ranchhod Tikam
Mukti Hetu Badrinath Ji.

https://shriaarti.in/

चार धाम की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

Line 1: Chalo Re Sadho Chalo Re Santo
Translation: Come, O Sadhaks, Come, O Saints

Line 2: Nahayasyana in the sandalwood pond
Translation: bathe in sandalwood pond

Line 3: Darsan Dhyo Jagannath Swami
Translation: see the divine vision of Lord Jagannath

Line 4: Pher Janam Nihi Paisayan
Translation: will no longer experience the cycle of birth and death

Row 5: Ratnagar Sagar Nahayasyan
Translation: bathe in the ocean of gems

Line 6: Darshan Dhyo Ramnath Swami
Translation: meditate on Lord Ramnath

Line 7: No money again
Translation: will no longer experience the cycle of birth and death

Line 8: Nahayas in Gomti Ganga
Translation:Bathe in the rivers Gomti and Ganga

Line 9: Darshan Dhyo Ranchhod Tikam
Translation: Meditate on Lord Ranchod

Line 10: Money is not born again
Translation: will no longer experience the cycle of birth and death

Line 11: Nahayasyana in the hot pool
Translation: bathe in hot springs

Line 12: Darshan Dhyo Badrinath Swami
Translation: Meditate on Lord Badrinath

Line 13: Money is not born again
Translation: will no longer experience the cycle of birth and death

Line 14: Kund Darshan Jagannath ji
Translation: Darshan of Lord Jagannath on the pond

Line 15: Kund Darshan Ramnath ji
Translation: Darshan of Lord Ramnath on the pond

Line 16: Kun Disha Ranchod Tikam
Translation: In which direction is Lord Ranchod?

Line 17: Where is Disha Badrinath ji
Translation: In which direction is Lord Badrinath?

Line 18: East direction Jagannath Swami
Translation: Lord Jagannath is in the east

Line 19: South direction Ramnath ji
Translation: Lord Ramnath is in the south direction

Line 20: Ker Chade Ranchod Tikam
Translation: Lord Ranchod is Lagnesh

Line 21: Badrinath ji got angry
Translation: Lord Badrinath is Lagnesh

Line 22: Jagannath Swami climbs the Atko
Translation: Lord Jagannath is stable

Line 23: Ramnath ji climbed the Ganges
Translation: Lord Ramnath is in the Ganges

Line 24: Makhan Mishri Ranchod Tikam
Translation: Lord Ranchod loves butter and sugar

Line 25: Badrinath ji got down
Translation: Lord Badrinath eats lentils

Line 26: Ker Karan Jagannath Swami
Translation: For what purpose is Lord Jagannatha?

Line 27: Jog Karan Ramnath ji
Translation: For what purpose is Lord Ramnath?

Line 28: Ker karan ranchod tikam
Translation: For what purpose is Lord Ranchod?

Line 29: Ker Karan Badrinath ji
Translation: For what purpose is Lord Badrinath?

Line 30: Bhog Karan Jagannath Swami
Translation: Lord Jagannath is worshiped with offerings

Line 31: Jog Karan Ramnath ji
Translation: Lord Ramnath is worshiped through meditation

Line 32: Raj Karan Ramnath Tikam
Translation: Lord Ramnath is the king of kings

Line 33: Tap Karan Badrinath ji
Translation: Lord Badrinath is worshiped with penance

Line 34: Jagannath ji for care
Translation: For what reason is Lord Jagannath there?

Line 35: Ramnath ji for Ker
Translation: For what reason is Lord Ramnath?

Line 36: Ranchod Tikam for Ker
Translation: For what reason is Lord Ranchod?

Line 37: Badrinath ji for Ker
Translation: For what reason is Lord Badrinath there?

Line 38: Jagannath Swami for the son
Translation: Lord Jagannath is for children

Line 39: Ramnath ji for Lakshmi
Translation: Lord Ramnath is for wealth

Line 40: Ranchod Tikam for devotion
Translation: Lord Ranchod is for devotion

Line 41: Badrinath ji for salvation
Translation: Lord Badrinath is for salvation

चार धाम की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

पंक्ति 1: चलो रे साधो चलो रे संतो
अनुवाद: आओ, हे साधकों, आओ, हे संतों

पंक्ति 2: चंदन तालाब में नहायस्यान
अनुवाद: चंदन तालाब में स्नान करें

पंक्ति 3: दरसन धायो जगननाथ स्वामी
अनुवाद: भगवान जगन्नाथ के दिव्य दर्शन को देखें

पंक्ति 4: फेर जनम निहि पैसयां
अनुवाद: अब जन्म और मृत्यु चक्र का अनुभव नहीं होगा

पंक्ति 5: रत्नागर सागर नहायस्यान
अनुवाद: रत्नों के सागर में स्नान करो

पंक्ति 6: दर्शन ध्यो रामनाथ स्वामी
अनुवाद: भगवान रामनाथ का ध्यान करें

पंक्ति 7: फेर जनम नहीं पैसयां
अनुवाद: अब जन्म और मृत्यु चक्र का अनुभव नहीं होगा

पंक्ति 8:गोमती गंगा में नहायस्याँ
अनुवाद:गोमती और गंगा नदियों में स्नान करें

पंक्ति 9: दर्शन ध्यो रणछोड़ टीकम
अनुवाद: भगवान रणछोड़ का ध्यान करें

पंक्ति 10: फेर जनम नहीं पैसयां
अनुवाद: अब जन्म और मृत्यु चक्र का अनुभव नहीं होगा

पंक्ति 11: तप्त कुंड में नहायस्यान
अनुवाद: गर्म झरनों में स्नान करें

पंक्ति 12: दर्शन ध्यो बदीरीनाथ स्वामी
अनुवाद: भगवान बद्रीनाथ का ध्यान करें

पंक्ति 13: फेर जनम नहीं पैसयां
अनुवाद: अब जन्म और मृत्यु चक्र का अनुभव नहीं होगा

पंक्ति 14: कुंड दर्शन जगन्नाथ जी
अनुवाद: तालाब पर भगवान जगन्नाथ के दर्शन

पंक्ति 15: कुंड दर्शन रामनाथ जी
अनुवाद: तालाब पर भगवान रामनाथ के दर्शन

पंक्ति 16: कुण दिशा रणछोड़ टीकम
अनुवाद: भगवान रणछोड़ किस दिशा में हैं?

पंक्ति 17: कुँ दिशा बद्रीनाथ जी
अनुवाद: भगवान बद्रीनाथ किस दिशा में हैं?

पंक्ति 18: पूरब दिशा जगनाथ स्वामी
अनुवाद: भगवान जगन्नाथ पूर्व दिशा में हैं

पंक्ति 19: दक्षिण दिशा रामनाथ जी
अनुवाद: भगवान रामनाथ दक्षिण दिशा में हैं

पंक्ति 20: केर चढ़े रणछोड़ टीकम
अनुवाद: भगवान रणछोड़ लग्नेश हैं

पंक्ति 21: केर चढ़े बद्रीनाथ जी
अनुवाद: भगवान बद्रीनाथ लग्नेश हैं

पंक्ति 22: अटको चढ़े जगन्नाथ स्वामी
अनुवाद: भगवान जगन्नाथ स्थिर हैं

पंक्ति 23: गंगा चढ़े रामनाथ जी
अनुवाद: भगवान रामनाथ गंगा में हैं

पंक्ति 24: माखन मिश्री रणछोड़ टीकम
अनुवाद: भगवान रणछोड़ को मक्खन और चीनी बहुत पसंद है

पंक्ति 25: डाल चढ़े बद्रीनाथ जी
अनुवाद: भगवान बद्रीनाथ मसूर की दाल खाते हैं

पंक्ति 26: केर करण जगन्नाथ स्वामी
अनुवाद: भगवान जगन्नाथ किस प्रयोजन के लिए हैं?

पंक्ति 27: जोग करण रामनाथ जी
अनुवाद: भगवान रामनाथ किस प्रयोजन के लिए हैं?

पंक्ति 28: केर करण रणछोड़ टीकम
अनुवाद: भगवान रणछोड़ किस प्रयोजन के लिए हैं?

पंक्ति 29: केर करण बद्रीनाथ जी
अनुवाद: भगवान बद्रीनाथ किस प्रयोजन के लिए हैं?

पंक्ति 30: भोग करण जगन्नाथ स्वामी
अनुवाद: भगवान जगन्नाथ की पूजा प्रसाद से की जाती है

पंक्ति 31: जोग करण रामनाथ जी
अनुवाद: ध्यान के माध्यम से भगवान रामनाथ की पूजा की जाती है

पंक्ति 32: राज करण रामनाथ टीकम
अनुवाद: भगवान रामनाथ राजाओं के राजा हैं

पंक्ति 33: करण बद्रीनाथ जी को टैप करें
अनुवाद: भगवान बद्रीनाथ की पूजा तपस्या से की जाती है

पंक्ति 34: केर हेतु जगन्नाथ जी
अनुवाद: भगवान जगन्नाथ किस कारण से हैं?

पंक्ति 35: केर हेतु रामनाथ जी
अनुवाद: भगवान रामनाथ किस कारण से हैं?

पंक्ति 36: केर हेतु रणछोड़ टीकम
अनुवाद: भगवान रणछोड़ किस कारण से हैं?

पंक्ति 37: केर हेतु बद्रीनाथ जी
अनुवाद: भगवान बद्रीनाथ किस कारण से हैं?

पंक्ति 38: पुत्र हेतु जगन्नाथ स्वामी
अनुवाद: भगवान जगन्नाथ संतान के लिए हैं

पंक्ति 39: लक्ष्मी हेतु रामनाथ जी
अनुवाद: भगवान रामनाथ धन के लिए हैं

पंक्ति 40: भक्ति हेतु रणछोड़ टीकम
अनुवाद: प्रभु रणछोड़ भक्ति के लिए हैं

पंक्ति 41: मुक्ति हेतु बद्रीनाथ जी
अनुवाद: भगवान बद्रीनाथ मुक्ति के लिए हैं

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

Leave a Comment