🪔नृसिंह भगवान जी की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

नृसिंह भगवान जी की आरती (हिंदी) –

ॐ जय नरसिंह हरे,
प्रभु जय नरसिंह हरे ।
स्तंभ फाड़ प्रभु प्रकटे,
स्तंभ फाड़ प्रभु प्रकटे,
जनका ताप हरे ॥
ॐ जय नरसिंह हरे ॥

तुम हो दिन दयाला,
भक्तन हितकारी,
प्रभु भक्तन हितकारी ।
अद्भुत रूप बनाकर,
अद्भुत रूप बनाकर,
प्रकटे भय हारी ॥
ॐ जय नरसिंह हरे ॥

सबके ह्रदय विदारण,
दुस्यु जियो मारी,
प्रभु दुस्यु जियो मारी ।
दास जान आपनायो,
दास जान आपनायो,
जनपर कृपा करी ॥
ॐ जय नरसिंह हरे ॥

ब्रह्मा करत आरती,
माला पहिनावे,
प्रभु माला पहिनावे ।
शिवजी जय जय कहकर,
पुष्पन बरसावे ॥
ॐ जय नरसिंह हरे ॥

सिंह भगवान जी की आरती

Narsingh bhagwan Ji Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Om Jay Narasimha Hare,
Prabhu Jay Narasimha Hare.
Stambh Faad Prabhu Prakate,
Stambh Faad Prabhu Prakate,
Janaka Tap Hare.
Om Jay Narasimha Hare.

Tum Ho Din Dayala,
Bhaktan Hitkari,
Prabhu Bhaktan Hitkari.
Adbhut Roop Banakar,
Adbhut Roop Banakar,
Prakate Bhay Hari.
Om Jay Narasimha Hare.

Sabke Hridaya Vidaaran,
Dusyu Jiyo Mari,
Prabhu Dusyu Jiyo Mari.
Daas Jaan Aapanayo,
Daas Jaan Aapanayo,
Janpar Kripa Kari.
Om Jay Narasimha Hare.

Brahma Karat Aarti,
Mala Pahinave,
Prabhu Mala Pahinave.
Shivji Jay Jay Kahkar,
Pushpan Barsave.
Om Jay Narasimha Hare.

https://shriaarti.in/

नृसिंह भगवान जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

Om Jay Narasimha Hare,
Prabhu Jay Narasimha Hare.
Stambh Faad Prabhu Prakate,
Stambh Faad Prabhu Prakate,
Janaka Tap Hare.
Om Jay Narasimha Hare.

Translation:
Om, Victory to Lord Narasimha,
Victory to Lord Narasimha.
The Lord manifests by breaking barriers,
The Lord manifests by breaking barriers,
He destroys the austerities of the wicked.
Om, Victory to Lord Narasimha.

Tum Ho Din Dayala,
Bhaktan Hitkari,
Prabhu Bhaktan Hitkari.
Adbhut Roop Banakar,
Adbhut Roop Banakar,
Prakate Bhay Hari.
Om Jay Narasimha Hare.

Translation:
You are the compassionate one during the day,
The benefactor of devotees,
The Lord who protects devotees.
Assuming a wondrous form,
Assuming a wondrous form,
You remove fear upon manifestation.
Om, Victory to Lord Narasimha.

Sabke Hridaya Vidaaran,
Dusyu Jiyo Mari,
Prabhu Dusyu Jiyo Mari.
Daas Jaan Aapanayo,
Daas Jaan Aapanayo,
Janpar Kripa Kari.
Om Jay Narasimha Hare.

Translation:
You pierce everyone’s heart,
You defeat the evil-minded.
O Lord, you defeat the evil-minded.
You make your devotees your own,
You make your devotees your own,
Blessing them with your mercy.
Om, Victory to Lord Narasimha.

Brahma Karat Aarti,
Mala Pahinave,
Prabhu Mala Pahinave.
Shivji Jay Jay Kahkar,
Pushpan Barsave.
Om Jay Narasimha Hare.

Translation:
Brahma performs the Aarti (ritual of waving a lamp),
Offering a garland,
The Lord accepts the garland.
Shouting “Victory, Victory” to Lord Shiva,
Showering flowers.
Om, Victory to Lord Narasimha.

नृसिंह भगवान जी की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

ओम जय नरसिम्हा हरे,
प्रभु जय नरसिम्हा हरे।
स्तम्भ फाद प्रभु प्रकाते,
स्तम्भ फाद प्रभु प्रकाते,
जनक तप हरे।
ॐ जय नरसिम्हा हरे।

अनुवाद:
ओम, भगवान नरसिंह की जय,
भगवान नरसिंह की जय।
बंधनों को तोड़कर प्रकट होते हैं प्रभु,
बंधनों को तोड़कर प्रकट होते हैं प्रभु,
वह दुष्टों की तपस्या भंग कर देता है।
ॐ नृसिंह देव की जय।

तुम हो दिन दयाला,
भक्त हितकारी,
प्रभु भक्तन हितकारी।
अद्भुत रूप बनाकर,
अद्भुत रूप बनाकर,
प्रकाते भै हरि।
ॐ जय नरसिम्हा हरे।

अनुवाद:
आप दिन के दौरान दयालु हैं,
भक्तों के हितैषी,
भगवान जो भक्तों की रक्षा करते हैं।
अजब रूप धारण कर,
अजब रूप धारण कर,
आप प्रकट होने पर भय को दूर करते हैं।
ॐ नृसिंह देव की जय।

सबके हृदय विदारन,
दस्यु जियो मारी,
प्रभु दस्यु जियो मारी।
दास जान आपनयो,
दास जान आपनयो,
जनपर कृपा करि।
ॐ जय नरसिम्हा हरे।

अनुवाद:
तुम सबके दिल में छेद करते हो,
आप दुष्टबुद्धि को पराजित करते हैं।
हे प्रभु, आप दुष्टों को पराजित करते हैं।
तुम अपने भक्तों को अपना बनाओ,
तुम अपने भक्तों को अपना बनाओ,
अपनी दया से उन्हें आशीर्वाद दें।
ॐ नृसिंह देव की जय।

ब्रह्म करात आरती,
माला पहिनावे,
प्रभु माला पहीनवे।
शिवजी जय जय कहकर,
पुष्पन बरसावे।
ॐ जय नरसिम्हा हरे।

अनुवाद:
ब्रह्मा आरती करते हैं (दीपक लहराने की रस्म),
माला अर्पित करते हुए,
प्रभु माला स्वीकार करते हैं।
भगवान शिव को “विजय, विजय” चिल्लाते हुए,
फूलों की वर्षा।
ॐ नृसिंह देव की जय।

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

महत्वपूर्ण प्रश्न –

भगवान विष्णु ने नृसिंह अवतार क्यों लिया था?

भगवान विष्णु ने अपने भक्त प्रह्लाद को उसके दुष्ट पिता हिरण्यकशिपु से बचाने के लिए नरसिंह अवतार लिया था। हिरण्यकशिपु को एक वरदान प्राप्त था जिसने उसे अविनाशी बना दिया था, और वह स्वयं को अजेय मानता था। भगवान विष्णु नरसिंह, एक आधे आदमी और आधे शेर के रूप में प्रकट हुए, और शाम को हिरण्यकशिपु को मार डाला, अपने तेज पंजे का उपयोग करके उसके शरीर को फाड़ दिया। इस दिन को नरसिंह जयंती के रूप में मनाया जाता है।

सप्ताह का कौन सा दिन भगवान नरसिंह की पूजा करना अच्छा है?

भगवान नरसिंह की पूजा के लिए कोई विशेष दिन नहीं है। हालाँकि, नरसिंह जयंती, जो वैशाख मास के शुक्ल पक्ष के 14 वें दिन आती है, और इस दिन को भगवान नरसिंह की पूजा करने के लिए एक शुभ माना जाता है।

भगवान नरसिंह का पसंदीदा भोजन क्या है?

भगवान नरसिंह का पसंदीदा भोजन पनकम है जिसे अमृत पेय भी कहते है जो को की गुड और पानी से बनाया जाता है।

Leave a Comment