🪔 शारदा माता की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Print Friendly, PDF & Email
5/5 - (1 vote)

शारदा माता की आरती (हिंदी), Sharda Mata Ki Aarti, sharda maiya ki aarti, sharda mata ki aarti –

॥ आरती श्री शारदा माता ॥
भुवन विराजी शारदा महिमा अपरम्पार।
भक्तों के कल्याण को धरो मात अवतार॥
मैया शारदा तोरे दरबार,
आरती नित गाऊँ।

नित गाऊँ मैया नित गाऊँ,
मैया शारदा तोरे दरबार आरती नित गाऊँ।
श्रद्धा को दीया प्रीत की बाती असुअन तेल चढ़ाऊँ,
दर्श तोरे पाऊँ।
मैया शारदा तोरे दरबार,
आरती नित गाऊँ।

मन की माला आँख के मोती भाव के फूल चढ़ाऊँ,
दर्श तोरे पाऊँ।
मैया शारदा तोरे दरबार,
आरती नित गाऊँ।

बल को भोग स्वांस दिन राती कंधे से विनय सुनाऊँ,
दर्श तोरे पाऊँ।
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

तप को हार कर्ण को टीका ध्यान की ध्वजा चढ़ाऊँ,
दर्श तोरे पाऊँ।
मैया शारदा तोरे दरबार,
आरती नित गाऊँ।

माँ के भजन साधु सन्तन को आरती रोज सुनाऊ,
दर्श तोरे पाऊँ।
मैया शारदा तोरे दरबार,
आरती नित गाऊँ।

सुमर-सुमर माँ के जस गावे चरनन शीश नवाऊँ,\ दर्श तोरे पाऊँ।
मैया शारदा तोरे दरबार,
आरती नित गाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार आरती नित गाऊँ,
मैया शारदा तोरे दरबार,
आरती नित गाऊँ।

🪔 शारदा माता की आरती (हिंदी) & (English Lyrics) PDF

Sharda Mata Ki Aarti, Hindi (English Lyrics) –

Bhuvan viraji sharada mahima aparam.
Bhakton ke kalyan ko dharo maat avatar.
Maiya sharada tore darbar,
Aarti nit gaun.

Nit gaun maiya nit gaun,
Maiya sharada tore darbar aarti nit gaun.
Shraddha ko diya preet ki baati asuan tel chadhau,
Darsh tore paun.
Maiya sharada tore darbar,
Aarti nit gaun.

Man ki mala ankhe ke moti bhav ke phool chadhau,
Darsh tore paun.
Maiya sharada tore darbar,
Aarti nit gaun.

Bal ko bhog swas din rati kandhe se vinay sunau,
Darsh tore paun.
Maiya sharada tore darbar,
Aarti nit gaun.

Tap ko haar karn ko tika dhyan ki dhvaja chadhau,
Darsh tore paun.
Maiya sharada tore darbar,
Aarti nit gaun.

Maa ke bhajan sadhu santan ko aarti roz sunau,
Darsh tore paun.
Maiya sharada tore darbar,
Aarti nit gaun.

Sumar-sumar maa ke jas gawe charnan shish navau,
Darsh tore paun.
Maiya sharada tore darbar,
Aarti nit gaun.

Maiya sharada tore darbar aarti nit gaun,
Maiya sharada tore darbar,
Aarti nit gaun.

https://shriaarti.in/

शारदा माता की आरती का सरल भावार्थ हिंदी & English –

Bhuvan Viraji Sharda Mahima Aparam.
The unique glory of Goddess Sharda is shining in the world.

Don’t hold the welfare of the devotees incarnate.
O Mother, reveal Yourself for the welfare of Your devotees.

Maiya Sharda Tore Darbar.
Oh Mother Sharda, I pray in your divine court.

Aarti every day.
I sing your praise and perform ritual aarti.

Cow everyday mother.
I constantly sing your praises, O Mother, I sing your praises.

Mother Sharda Tore Darbar Aarti every night.
Oh Mother Sharda, I sing your praises and perform ritual aarti in your divine court.

Offer Aswan oil to Shraddha, talk about love.
I light the lamp of love with the oil of devotion and tears of faith.

Darsh tore paan.
I want your divine vision, oh mother.

Mother Sharda in your court, Aarti every night.
O Mother Sharda, I offer my prayers to your divine court, and sing your praises incessantly.

May the garland of the mind be the pearl of the eyes, offer flowers.
I string the beads of my mind and offer the pearls of my eyes like the flowers of my emotions.

Darsh tore paan.
I want your divine vision, oh mother.

Mother Sharda in your court, Aarti every night.
O Mother Sharda, I offer my prayers to your divine court, and sing your praises incessantly.

Bhog breath to the hair day and night Listen to the request from the shoulder.
I offer myself as a humble servant, providing comfort and assistance day and night.

Darsh tore paan.
I want your divine vision, oh mother.

Mother Sharda in your court, Aarti every night.
O Mother Sharda, I offer my prayers to your divine court, and sing your praises incessantly.

To defeat penance, raise the flag of tika meditation.
I offer the garland of devotion and raise the flag of meditation in honor of your penance.

Darsh tore paan.
I want your divine vision, oh mother.

Mother Sharda in your court, Aarti every night.
O Mother Sharda, I offer my prayers to your divine court, and sing your praises incessantly.

Listen to mother’s bhajan, aarti daily to the saintly children.
I sing hymns in praise of the Mother, I pray daily to the holy saints.

Darsh tore paan.
I want your divine vision, oh mother.

Mother Sharda in your court, Aarti every night.
O Mother Sharda, I offer my prayers to your divine court, and sing your praises incessantly.

Sumer-sumer Maa’s feet sing like this, Sheesh Navau.
I remember and sing the glory of Mother, I bow down to her divine feet.

शारदा माता की आरती का सरल भावार्थ हिंदी –

भुवन विराजी शारदा महिमा अपारम्।
संसार में देवी शारदा का अनुपम माहात्म्य चमक रहा है।

भक्तों के कल्याण को धरो मत अवतार।
हे माता, अपने भक्तों के कल्याण के लिए स्वयं को प्रकट करें।

मैया शारदा तोरे दरबार।
हे माँ शारदा, मैं आपके दिव्य दरबार में प्रार्थना करता हूँ।

आरती नित गुन।
मैं आपकी स्तुति गाता हूं और कर्मकांड की आरती करता हूं।

नित गौं मइया नित गौं।
मैं निरंतर आपके गुण गाता हूं, हे माता, मैं आपके गुण गाता हूं।

मैया शारदा तोरे दरबार आरती नित गौं।
हे माँ शारदा, मैं आपकी स्तुति गाता हूँ और आपके दिव्य दरबार में कर्मकांड की आरती करता हूँ।

श्रद्धा को दीया प्रीत की बात असुआन तेल चढ़ाउ।
मैं भक्ति के तेल और विश्वास के आँसुओं से प्रेम का दीपक जलाता हूँ।

दर्श तोरे पान।
मैं आपकी दिव्य दृष्टि चाहता हूँ, हे माँ।

मैया शारदा तोरे दरबार, आरती नित गौं।
हे माँ शारदा, मैं आपके दिव्य दरबार में अपनी प्रार्थना करता हूँ, और आपकी स्तुति लगातार गाता हूँ।

मन की माला अँखे के मोती भव के फूल चढ़ाऊ।
मन के मनके पिरोता हूँ और आँखों के मोती, भावों के फूल की तरह चढ़ाता हूँ।

दर्श तोरे पान।
मैं आपकी दिव्य दृष्टि चाहता हूँ, हे माँ।

मैया शारदा तोरे दरबार, आरती नित गौं।
हे माँ शारदा, मैं आपके दिव्य दरबार में अपनी प्रार्थना करता हूँ, और आपकी स्तुति लगातार गाता हूँ।

बाल को भोग स्वास दिन रति कंधे से विनय सुनौ।
मैं खुद को एक विनम्र सेवक के रूप में पेश करता हूं, दिन-रात आराम और सहायता प्रदान करता हूं।

दर्श तोरे पान।
मैं आपकी दिव्य दृष्टि चाहता हूँ, हे माँ।

मैया शारदा तोरे दरबार, आरती नित गौं।
हे माँ शारदा, मैं आपके दिव्य दरबार में अपनी प्रार्थना करता हूँ, और आपकी स्तुति लगातार गाता हूँ।

तप को हार करने को टीका ध्यान की ध्वजा चढ़ाउ।
मैं आपकी तपस्या के सम्मान में भक्ति की माला चढ़ाता हूं और ध्यान का पताका उठाता हूं।

दर्श तोरे पान।
मैं आपकी दिव्य दृष्टि चाहता हूँ, हे माँ।

मैया शारदा तोरे दरबार, आरती नित गौं।
हे माँ शारदा, मैं आपके दिव्य दरबार में अपनी प्रार्थना करता हूँ, और आपकी स्तुति लगातार गाता हूँ।

मां के भजन साधु संतान को आरती रोज सुनौ।
मैं माता की स्तुति में भजन गाता हूं, पुण्य संतों की दैनिक प्रार्थना करता हूं।

दर्श तोरे पान।
मैं आपकी दिव्य दृष्टि चाहता हूँ, हे माँ।

मैया शारदा तोरे दरबार, आरती नित गौं।
हे माँ शारदा, मैं आपके दिव्य दरबार में अपनी प्रार्थना करता हूँ, और आपकी स्तुति लगातार गाता हूँ।

सुमर-सुमर मां के जस गावे चरणन शीश नवौ।
मैं माता की महिमा का स्मरण और गान करता हूँ, मैं उनके दिव्य चरणों में कोटि-कोटि नमन करता हूँ।

हिंदी आरती संग्रह देखे – लिंक

Leave a Comment